गौवंश के संरक्षण एवं चारा-पानी उपलब्ध कराने के संबंध में निर्देश

9:19 pm or July 31, 2022
(दीपक शर्मा)
पन्ना ३१ जुलाई ;अभी तक;  पशुपालन एवं डेयरी विभाग के उप संचालक डॉ. विमल तिवारी ने सभी विकासखण्ड पशु चिकित्सा अधिकारी, पशु चिकित्सा सहायक शल्यज्ञ, पशु चिकित्सा क्षेत्र अधिकारी और सभी गौशाला प्रभारी एवं अध्यक्ष व प्रबंधक को वर्षा ऋतु के दृष्टिगत गौवंश के संरक्षण और चारा-पानी की सुविधा के संबंध में निर्देश जारी किए गए हैं।
                  उन्होंने कहा है कि स्वयंसेवी संस्थाओं और मुख्यमंत्री गौसेवा योजना के तहत संचालित गौशालाओं में उपलब्ध गौवंश के रख-रखाव एवं स्वास्थ्य की सतत निगरानी तथा चारा-पानी के लिए जरूरी व्यवस्थाएं करें। गौवंश का वर्षा के मौसम में सुरक्षा का विशेष ध्यान रखें और गौशाला में बारिस के पानी की निकासी की पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित की जाए।
                इसी तरह भूसे का भण्डारण और स्वच्छ पेयजल, टीकाकरण, पशु उपचार की सुविधा तत्काल प्रदान करने, गौवंश की शत प्रतिशत टैगिंग के लिए भी निर्देशित किया गया है। सभी गौशालाओं में गौवंश पहचान, पशु आहार, चिकित्सा, दैनिक विवरण, मृत गौवंश तथा अनुदान सहायता रजिस्टर संधारित करने के निर्देश भी दिए गए हैं।