चोरी करने वाले आरोपीयों को हुआ 03-03 वर्ष का सश्रम कारावास

विधिक संवाददाता 
 
इंदौर ५ जनवरी ;अभी तक; आज दिनांक को जिला लोक अभियोजन अधिकारी श्री संजीव श्रीवास्‍तव ने बताया कि दिनांक 04.01.2022 को न्‍यायालय – श्रीमान यश कुमार सिंह, न्‍यायिक मजिस्‍ट्रेट प्रथम श्रेणी जिला इंदौर के न्‍यायालय में प्रकरण क्रमांक 1926237/2012  में निर्णय पारित करते हुए आरोपीगण (1) पिंटू उर्फ प्रमोद पिता रमेश झरोड, उम्र 20 वर्ष  निवासी – सिद्धार्थ नगर, गांधी नगर, जिला इंदौर  (2) दीपक पिता कैलाश शर्मा उम्र 31 वर्ष निवासी – 113, न्‍यू हीरा नगर, इन्‍दौर (म0प्र0) को दोषी पाते हुए धारा 457 भा.द.सं. में 03-03 वर्ष का सश्रम कारावास व   500-500 रूपये के अर्थदण्‍ड एवं धारा 380 भा.द.सं. में 02-02 वर्ष का सश्रम कारावास व  500-500 रूपये के अर्थदण्‍ड से दण्डित किया गया । प्रकरण में अभियोजन की ओर से पैरवी सहायक जिला लोक अभियोजन अधिकारी श्री सुनील जाट द्वारा की गई । 
                   अभियोजन की कहानी संक्षेप में इस प्रकार है कि दिनांक 08.08.2012 को करीब रात्रि 11 बजे फरियादी परिवार सहित सो गया था, जब सुबह करीब 07 बजे घर की छत पर बने मंदिर में पूजा करने गया तो देखा कि भगवान की फोटो अस्‍त व्‍यस्‍त पडी थी व रखे हुए पैसे करीबन 500 रूपये नहीं थे । उसने देखा कि उसकी टावल पीछे बने मकान की छत पर पडी है, जब वह अपनी टावल उठाने के लिये गया तो उसने अपने पडोसी लक्ष्‍मीप्रसाद को आवाज लगाई, लेकिन कोई जवाब नहीं आने पर वह लक्ष्‍मीप्रसाद पाण्‍डे के यहां गया तो उसने देखा कि उनके घर का ताला टूटा हुआ था और घर का सामान अस्‍त व्‍यस्‍त था । उसके बाद वह दूसरे पडोसी के घर गया जहॉ पडोसी ने बताया कि लक्ष्‍मीप्रसाद शिर्डी दर्शन करने के लिए गए है, तब उसे संदेह हुआ कि किसी ने उसके व लक्ष्‍मीप्रसाद के घर में चोरी की है । उक्‍त घटना के संबंध में राजनारयण चतुर्वेदी को बताया ओर थाने पर रिपोर्ट की । उक्‍त घटना की रिपोर्ट के आधार पर अज्ञात आरोपियों के विरूद्ध अपराध क्रमांक 371/12 धारा 457,380 भादवि का कायम कर विवेचना में लिया गया । विवेचना दौरान कुल 04 आरोपीगणों को गिरफ्तार किया गया और अभियोग पत्र न्‍यायालय में पेश किया गया । जिस पर से 02 आरोपियों को उक्‍त सजा सुनाई गई । 
                      प्रकरण में 02 आरोपी अभी फरार है ।