जनप्रतिंधियो के अहम् के कारण मेडिकल कालेज दिवास्वप्न बन कर नही रह जाय, डा सम्पत जाजू

महावीर अग्रवाल
मंदसौर २४ अक्टूबर ;अभी तक; पूर्व विधायक डाक्टर सम्पत स्वरूप जाजू ने नीमच ज़िले के जनप्रतिनिधियों की कार्यशैली पर प्रश्नचिन्ह लागतें हुए कहाँ कि केंद्रसरकार और तत्कालीन क़ंग्रेस सरकार के समय स्वीकृत चिकित्सा महाविद्यालय की योजना स्थानीय जनप्रतिनिधियो की तथाकथित कार्यशैली के कारण अधर में लटक गईं हैं .जिसका अगर तुरंत समाधान नही हुआ तो चिकित्सा महाविद्यालय नीमच के लिये दिवास्वप्न बन जायेगा ।
                     डाक्टर जाजू ने कहा कि श्रेय , रसूख़ और स्वार्थ के साथ राजनीति का घालमेल विकास योजनाओं में रोड़े उत्पन्न कर देते हैं । यह स्थिति नीमच ज़िले में पूर्व में भी और वर्तमान में भी देखने को मिल रही हैं . इतिहास गवाह हैं कि पूर्व में भी शिक्षा के क्षेत्र में भी स्थान और ज़मीन को लेकर अवरोध और  कई रोड़े तत्कालीन कथित नेताओ ने अपने निजीस्वार्थपूर्ति के लिये  किये थे यहाँ तक न्यायालय में भी रोक के लिये भी केस दायर किये गये थे लेकिन तत्कालीन जनप्रतिंधियो और प्रशासनिक सूझबूझ एवम् इच्छाशक्ति के कारण वे अवरोध दूर करते हुए समयसीमा से पूर्व उन योजनाओं को क्रियान्वयन किया गया था .
चिकित्सामहाविद्यालय नीमच ज़िले  की आवश्यकता हैं जिसे तय समयसीमा में क्रियान्वयन करवाना प्रशासन का और जनप्रतिनिधियों का कर्तव्य और दायित्व हैं .
डाक्टर जाजू ने कहा कि जनप्रतिनिधियों की कार्यशैली से लगता नही हैं कि चिकित्सामहाविद्यालय की सौग़ात अगले कुछ वर्षों में नीमच को मिल जायेगी ..
 नीमच चिकित्सामहाविद्यालय के भूमि चयन और भवनो की निविदा प्रक्रिया में जिस तरह की लेतलाली हो रही हैं वह तो यही दर्शा रही हैं ।
अभी भी समय हैं जितनी जल्दी प्रक्रिया को पूरा करेंगे उतनी जल्दी चिकित्सा महाविद्यालय प्रारम्भ हो सकेगा ।
नीमच ज़िले में चिकित्सा महाविद्यालय समय सीमा में स्थापित हो जाये के बारे में हमारे जनप्रतिंधि कितने गम्भीर हैं यह इस बात से ही लगता हैं कि दो माह से अधिक समय हो गया हैं तीस करोड़ रुपए की राशि स्वीकृत हुए ( अगस्त माह में स्वीकृत हो गया था ) लेकिन अभी तक कोई ठोस कार्यवाही नही की गईं क्या यह उनका दायित्व नही हैं कि इतनी महत्वपूर्ण योजना को जितनी जल्दी हो उतनी जल्दी कार्य प्रारम्भ करवा कर अगली किश्त स्वीकृत करवाएँ ।
डाक्टर जाजू ने जनप्रतिंधियो से अनुरोध किया हैं की मेडिकल कालेज की महती योजना को ज़मीन पर क्रियान्वयन करवाने के लिये तुरंत आपस में समन्वय बना कर उचित स्थान का चयन कर आवंटित धन राशि का उपयोग शिर्घ करें।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *