जब-जब संसार मे पाप बढता है-ईश्वर अवतार लेते है-प्रभा शंकर जी महराज

9:00 pm or September 20, 2022
(दीपक शर्मा)
पन्ना २० सितम्बर ;अभी तक; संसार मे जब जब अनाचार, अत्याचार, बढता है तथा लोग धर्मछोडकर अधर्म के रास्ते पर चलते है तब-तब भगवान को स्वंय अवतार लेना पडता है तथा पाप करने वाले पापियो का उनके द्वारा संघहार किया जाता है।
                    उक्ताश्य के विचार कथा वाचक प्रभाशंकर जी महराज के द्वारा राम कथा का वाचन करते हुए व्यक्त किये। जिला चिकित्सालय के सामने स्थित भोलेनाथ मंदिर मे साप्ताहिक रामकथा चल रही है इसी दौरान उन्होने कथा के दौरान राक्षसी ताडका तथा सुबाहू का सघाहार करने के लिए तथा यज्ञ संपन्न कराने के लिए महार्षि विश्वामित्र के द्वारा महाराजा दशरथ से भगवान राम तथा लक्ष्मण को ले गये थें, और उनके द्वारा यज्ञ को संपन्न कराया गया तथा राक्षसो का संघहार कराया गया।
                     उन्होने अघर्म पर धर्म की विजय के संबंध मे भी विस्तार से वर्णन किया। उन्होने ने बताया कि इस कलयुग मे अंन्याय, अत्याचार, बृहद रूप से बढा है लेकिन आज भी धर्म पर चलने वालो की कमी नही है, जो धर्म के मार्ग पर चलते है उनका जीवन सफल रहता है तथा हमेशा उन्हे उन्नति प्राप्त हो ती है इस लिए कितनी भी कठिन परिस्थितीया हो जाये हमेशा इंसान को धर्म तथा सत्य के मार्ग पर चलने का प्रयास करना चाहीए। भोलेनाथ मंदिर मे प्रतिदिन शांयकाल 3 बजे से 7 बजे तक राम कथा संचालित होती है। लोगो से कथा मे पहुचकर धर्म लाभ लेने की अपील की गई है।