जमीन कारोबारियो एवं रसुकदारो की संरक्षक बनी नपा, आम नागरिक नामांतरण के लिये दर-दर भटकने पर विवश-श्री भाटी

महावीर अग्रवाल
मंदसौर ३ सितम्बर ;अभी तक;  नगर पालिका परिषद जिस प्रकार से भटकाव के मार्ग से गुजर रही है उसके कारण निश्चित रूप से आम नागरिको को पीडा महसुस हो रही है। लगातार नगर पालिका में नामांतरण के लिये कई सालो से आम नागरिक परेशान होकर दर-दर भटक रहा है किन्तु नपा के पदाधिकारीगण आम नागरिको से अधिक जमीन कारोबारियो एव रसुकदारो के नामांतरण करने पर अधिक ध्यान केन्द्रीत कर रखा है। अनेक काॅलोनियो सहित विवादित भूमियो के नामांतरण करने के साथ ही नियम विरूध्द बने भवनो के नामांतरण काफी दिन पहले ही निपटाये जा चुके है किन्तु आम नागरिको के लंबित नामांतरण प्रकिया कछुआ गति से चल रही है।
                  यह बात जिला कांग्रेस प्रवक्ता एवं राष्ट्रीय मजदूर कांग्रेस अध्यक्ष सुरेश भाटी ने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से कही। उन्होनें कहा कि जब नपा में कांग्रेस की परिषद आयी थी तब काॅलोनाईजरो की बजाय आम नागरिको के अविवादित नामांतरण पहले वरियता के आधार पर किये गये किन्तु वर्तमान नपाध्यक्ष श्री कोटवानी और उनकी परिषद मंदसौर नगर के विवादित स्थलो के नामांतरण एवं उनको ऐनकेन प्रकारेण बचाने की कोशिश कर रहे है। उन्होनें कहा कि मंदसौर में लगातार भाजपा की परिषद होने का लाभ भूमाफियाओं एवं रसुकदार नियम विरूध्द कार्य करने वाले लोगो ने उठाया है जबकी आम नागरिक जरूरी कार्यो के लिये नपा में भ्रष्टाचार के रूपये देने के बावजुद भटकने पर विवश है।
                 श्री भाटी ने कहा कि वर्तमान नपा पदाधिकारियो ने नामांतरण सहित अन्य मामलो में तत्परता का दावा करते हुये परिषद के अधिकार होने के बावजुद पीआईसी में नामांतरण करने का फैसला करते हुये जनता को यह कहकर गुमराह किया कि इससे आम नागरिको के कार्य सरलता से और शीघ्र होगे किन्तु वर्तमान में उसका लाभ सिर्फ और सिर्फ जमीन कारोबारियो को ही मिल रहा है, आम नागरिक आज भी नपा में दर-दर भटक रहे है। मंदसौर नपा वर्तमान में दुकान की तरह संचालित हो रही है, जिसके संचालक लागत के आधार पर वसुली के सिध्दांत पर कार्य करते हुये प्रतित हो रहे है, मंदसौर शहर में नपा पदाधिकारियो को लेकर के जो चर्चाये है उससे नपा संचालन की कार्यप्रणाली को सरलता से समझा जा सकता है।
                   श्री भाटी ने नपा सीएमओं से इस मामले में लंबित आम नागरिको के नामांतरण प्रक्रिया हेतु कार्ययोजना बनाने की मांग करते हुये कहा कि अब तक जो स्थिति दिखायी दे रही है वह आम नागरिको के लिये हितकर नही है, मंदसौर नपा में लगभग दो सालो से अधिक समय के अविवादित नामांतरण लंबित है जिसका योजना बनाकर निपटाया किया जाना चाहिये

 

 

 

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *