जमीन विवाद के कारण मारपीट करने वाले 05 आरोपीगण को 01-01 वर्ष का सश्रम कारावास

महावीर अग्रवाल
मन्दसौर / मनासा २४ नवंबर ;अभी तक;  श्री मनीष पाण्डेय्, न्यायिक दण्डाधिकारी प्रथम श्रेणी, मनासा द्वारा 01 महिला सहित 05 आरोपीगण (1) गोपाल पिता कन्हैयालाल, उम्र-45 वर्ष, निवासी-ग्राम बरथून, मनासा, जिला नीमच, (2) बाबूलाल उर्फ दीपक पिता संजय, उम्र-26 वर्ष, निवासी-ग्राम नलखेड़ा, मनासा, जिला नीमच, (3) राजप्रसाद पिता रमेशचंद्र, उम्र-31 वर्ष, निवासी-ग्राम सिंघाडया पिपल्या, रामपुरा, जिला नीमच, (4) लीलाबाई पति गोपाल, उम्र-40 वर्ष, निवासी-ग्राम बरथून, मनासा, जिला नीमच व (5) शिवकुमार पिता गोपाल, उम्र-27 वर्ष, निवासी-ग्राम बरथून, मनासा, जिला नीमच को जमीन विवाद के कारण 03 व्यक्तियों के साथ मारपीट कर गंभीर चोट पहॅुचाये जाने के आरोप का दोषी पाकर भारतीय दण्ड संहिता, 1860 की धारा 325/34, 323/34 के अंतर्गत 01-01 वर्ष के कठिन कारावास एवं कुल 1100-1100रू. जुर्माने से दण्डित किया।
श्री अरविंद्र सिंह थापक, एडीपीओ द्वारा घटना की जानकारी देते हुुए बताया कि घटना दिनांक 27.01.2016 को शाम के  लगभग 6 बजे ग्राम बरथून स्थित फरियादी धीरज के घर के बाहर की हैं। फरियादी धीरज के पिता मुकेश, भाई राहुल व गोविन्द घर के बाहर खडे थे तभी आरोपीगण आये और कहने लगे कि जमीन उनकी हैं उस पर मकान न बनाये, इसी बात को लेकर आरोपीगण ने तीनों के साथ लकड़ी, लोहे के पाईप व लातघुसों से मारपीट करी, जिस कारण आहत गोविन्द व राहुल का चोटे आई एवं मुकेश को गंभीर चोट आकर उसका पैर फ्रैक्चर हो गया था। फरियादी धीरज द्वारा आरोपीगण के विरूद्ध घटना की रिपोर्ट पुलिस थाना मनासा में की, जिस पर से अपराध क्रमांक 32/2016, धारा 325/34, 323/34 भारतीय दण्ड संहिता, 1860 के अंतर्गत प्रथम सूचना रिपोर्ट पंजीबद्ध की गई। विवेचना के दौरान आहतगण का मेडिकल कराने एवं चश्मदीद साक्षियों के बयान लेने के उपरांत विवेचना पूर्ण कर अभियोग पत्र मनासा न्यायालय में प्रस्तुत किया गया।
विचारण के दौरान अभियोजन की ओर से न्यायालय में फरियादी, आहतगण व चश्मदीद साक्षीगण सहित सभी आवश्यक गवाहों के बयान कराकर आरोपीगण द्वारा लकडी, लोहे के पाईप व लातघुसों से मारपीट कर गंभीर चोट पहुॅचाये जाने के अपराध को प्रमाणित कराकर आरोपीगण को कठोर दण्ड से दण्डित किये जाने का निवेदन किया। माननीय न्यायालय द्वारा आरोपीगण को आहत मुकेश को गंभीर चोट पहुॅचाये जाने के कारण धारा 325/34 भारतीय दण्ड संहिता, 1860 के अंतर्गत 01-01 वर्ष का कठोर कारावास व 500-500 रूपये जुर्माना एवं आहतगण राहुल व गोविंद को साधारण चोटे पहुॅचाये जाने के कारण धारा 323/34 भारतीय दण्ड संहिता, 1860 के अंतर्गत 03-03 माह का कठोर कारावास व 600-600 रूपये जुर्माने से दण्डित किया, साथ ही जुर्माने की रकम में से 700रू मुकेश एवं 300-300रू आहतगण गोविंद व राहुल को प्रतिकर के रूप में प्रदान किये जाने का आदेश भी किया। न्यायालय में शासन की ओर से पैरवी श्री अरविंद सिंह थापक, एडीपीओ द्वारा की गई।

 

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *