जर्दा व्यवसाई गुप्ता के घर सेंध लगाकर नकबजनी करने वाले फरार आरोपी गिरफ्तार

5:35 pm or January 27, 2021
जर्दा व्यवसाई गुप्ता के घर सेंध लगाकर नकबजनी करने वाले फरार आरोपी गिरफ्तार

प्रेम वर्मा

राजगढ़ 27 जनवरी :अभी तक:  जिले के खिलचीपुर में 5 और 6 जून 19 की दरमियानी रात मे बृजमोहन गुप्ता ने उनके निवास पर चोरी होने की सूचना खिलचीपुर पुलिस थाने पहुंचकर दी। सूचना पर से थाने पर अज्ञात आरोपियों के विरुद्ध अपराध धारा 457ओर 380 भादवि का दर्ज  कर जांच में लिया गया था।

घटना की सूचना लगते ही पुलिस अधीक्षक प्रदीप शर्मा ने जिले के विशेष दस्तों को मौके पर पहुंचने के निर्देश दिए एवं स्वयं अपने दल बल के साथ घटनास्थल पर पहुंचे,  घटना गंभीर प्रकृति की पाए जाने पर चोरी गए माल  एवं अज्ञात चोरों की पतारसी हेतु   अनुविभागीय अधिकारी पुलिस खिलचीपुर एवं तत्कालीन थाना प्रभारी खिलचीपुर के नेतृत्व में जिले के विभिन्न थानों में पदस्थ अधिकारियों एवं कर्मचारियों  के विशेष दल का गठन किया गया, पुलिस अधीक्षक राजगढ द्वारा आरोपीयो की पतारसी करने पर प्रत्येक आरोपी पर 10-10 हजार के नगद इनाम की घोषणा भी कर दी गई थी।

पुलिस अधीक्षक द्वारा गठित विशेष दल ने हर संभव प्रयास कर तत्समय ही मामले में पतासाजी कर आरोपी राधेश्याम तंवर निवासी ग्राम खुटीयाबे, (भोजपुर ) आरोपी शाहिद खाॅ  ( खिलचीपुर)  एवं बाबर खाॅ, दोनो निवासी नाहरदा बडली ( खिलचीपुर) को गिरफ्तार कर उनके पास से 22 लाख 50 हजार नगद एवं 23 तोला सोने जैसी धातु के आभूषण जप्त  किए थे ।वहीं वर्तमान थाना प्रभारी उप निरीक्षक मुकेश गौड़ एवं उनके दल ने प्रकरण में फरार अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी कर लंबे समय से लंबित प्रकरण में नए सिरे से जांच एवं पतारसी की है।

ब्रजमोहन गुप्ता के अनुसार वह  चाय पत्ती व जर्दा का थोक व्यापारी है तोपखाना गेट के पास उसका घर है एवं बस स्टैण्ड खिलचीपुर पर जर्दा व चायपत्ती की दुकान है। घटना दिनांक को   वह और उसकी पत्नी माया गुप्ता खाना खाकर रात्रि में सो गये थे तथा घर का चौकीदार पर्वत सौध्या भी सो गया था। अचानक रात के करीबन ढाई बजे फरियादी की नींद खुली तो उन्होंने ठाकुरजी वाले कमरे का दरवाजा खुला देखा जिसमे उसकी तिजोरी व रुपये रखने की संदूक रखी थी। तिजोरी में उसके व लडकी के जेवर व नकदी रूपये रखे थे। चूकि वह रोज कमरे के दरवाजे मे ताला लगाकर सोता था तो उन्हें शंका हुई तब उन्होंने अपनी पत्नी माया गुप्ता को जगाया और दोनों ने ठाकुर जी के कमरे में जाकर देखा तो तिजोरी व रुपये रखने का संदूक खुला था तथा कमरे का सामान बिखरा पडा था। उसके द्वारा तिजोरी व संदूक मे देखा तो रूपये व जेवर नही थे, जिसकी सूचना उसने अपने दोस्त महेश व परिजनो व पुलिस को दी।

मामले के फरार आरोपी की गिरफ्तारी हेतु जिले की सायबर सेल के दल द्वारा कस्बा खिलचीपुर से प्राप्त सायबर डाटा का एनालसिस किया गया वहीं पुलिस दल ने आसपास के थाना क्षेत्र जीरापुर, माचलपुर और  भोजपुर एवं राजस्थान के घाटोली एवं भालता आदि के बदमाशो व संदिग्धो से पूछताछ की गई। दल द्वार पिछले पांच वर्ष  से संपत्ति संबंधी अपराधो मे गिरफ्तार आरोपियों से पृथक-पृथक पूछताछ कर घटना के संबंध मे जानकारी प्राप्त की गई।
मामले में पतारसी के दौरान ही थाना प्रभारी उपनिरीक्षक मुकेश गौड़ एवं उनकी पुलिस दल को मुखविरो द्वारा सूचना दी गई कि खिलचीपुर में चोरी के मामले में फरार आरोपी अपने गांव आए हुए हैं वहीं पुलिस दल ने दबिश देने की योजना बनाई।
पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में थाना खिलचीपुर के पुलिस दल को सफलता तब हाथ लगी नकबजनी के मामले में लंबे समय से फरार चल रहे  आरोपी जालम सिंह कंजर,मुनीम कंजर,रामपाल उर्फ रामकिशन कंजर, . राकेश कंजर और  रतन कंजर सर्व निवासी नारायणपुरा   झालावाड़ (राजस्थान ) आखिरकार पुलिस की गिरफ्त में आ गए।
मामले में पहला सुराग संदेही राधेश्याम से प्राप्त हुआ था  पूछताछ करने पर राधेश्याम ने अपराध के संबंध मे परत दर परत खुलासा किया था, राधेश्याम ने पूछताछ मे बताया कि मैने नारदा बडली के जाकिर व बाबर एवं सोमबारिया के शाहिद के साथ मिलकर चोरी की घटना घटित की है, हमारे साथ ग्राम नारायणपुरा झालरा पाटन के कुछ कंजर भी इस घटना मे शामिल थे। राधेश्याम, जाकिर और बाबर की गिरफ्तारी होते ही मामले के अन्य आरोपी मौके से फरार हो गए थे।
साजिश के मुताबिक उक्त सभी ने यह तय किया कि 05 व 6 जून 19 की रात को घटना को अंजाम देते है, फिर योजना के मुताविक सभी चोर बृजमोहन गुप्ता के घर चोरी करने के लिये राधेश्याम तंवर के घर इकठठे हुए और रात को ही फरियादी बृजमोहन गुप्ता के घर मे पीछे की दीवार से चढ कर छत के रास्ते से जाकर चोरी की घटना को अंजाम दिया । जाकिर व नारायणपुरा के चार कंजरो ने बृजमोहन गुप्ता के घर मे चोरी की वहीं राधेश्याम तवंर, शाहिद, बाबर व एक कंजर बाहर ईट भटटो के पास छिपकर अलग अलग दिशा से नजर रख कर निगरानी करते रहे। कुछ समय बाद बृजमोहन गुप्ता के घर गये इनके अन्य साथी माल पर हाथ साफ कर बाहर आ गये और सभी वहाॅ से भाग गये और चोरी का सारा माल बाद में आपस मे बांट लेने की नीयत से राधेश्याम तंवर के घर छिपा कर रख दिया।  चोरी गये माल के बटने के पूर्व ही चोरी करने वालो को गिरफ्तार कर माल बरामद कर लिया गया था वहीं राजस्थान पुलिस से थाना प्रभारी बी एल मीणा एवं उनकी पुलिस दल के सहयोग से मामले के अन्य चार फरार आरोपियों को भी गिरफ्तार करने में सफलता अर्जित की गई है।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *