जश्र मनाकर किया नए साल का स्वागत

मयंक भार्गव

बैतूल एक जनवरी ;अभी तक;  नव वर्ष को मंगलमय करने के उल्लास में शुक्रवार सुबह से रात 11 बजे तक शहरवासी डूबे दिखे। हर ओर 2021 की विदाई और 2022 के अभिनंदन की गूंज रही। रात को जैसे ही नव वर्ष ने दस्तक दी, लोगों ने आतिशबाजी से उसका स्वागत किया। नए साल के आगमन पर युवाओं व बच्चों में विशेष उत्साह दिखा। रात 11 बजे तक पार्टियों और सैरसपाटे का दौर चला। वहीं अधिकांश लोगों ने ठंड के चलते घर में ही रहकर नए साल का स्वागत किया। शहर में कुछ स्थानों पर भजन संध्या में शामिल होकर भी लोगों ने नववर्ष का सेलिब्रेशन किया। इसी के साथ नए वर्ष के पहले दिन लोग मंदिरों में भगवान के दर्शन सहित पूजा अर्चना करने के साथ-साथ बड़ो का आशीर्वाद भी प्राप्त करेंगे। नए साल के पहले दिन को यादगार बनाने के लिए सभी अपने-अपने स्तर से कुछ खास करेंगे ताकि यादें बनी रह सके। जैसे ही रात्रि के 12 बजे सभी एक साथ बोले हैप्पी न्यू ईयर 2022।
वर्ष के अंतिम दिन 31 दिसम्बर शुक्रवार को दोपहर से ही सड़क पर युवाओं की चहल- पहल बढ़ गई थी। हालांकि, सर्द हवाएं लोगों के उल्लास को चुनौती दे रही थी। लेकिन युवाओं के जोश की गर्मी, ठंड पर भारी पड़ी। उपहार के माध्यम से ‘नव वर्ष मंगलमयÓ कहने के लिए फूल, कार्ड व गिफ्ट की दुकानों पर पूरे दिन भीड़ लगी रही। शहर के बाजार सहित होटल व रेस्तरां भी सुबह से नववर्ष के आगमन के लिए तैयार किए जाने लगे थे। शाम के बाद जो रौनक बढ़ी, वो 11 बजे रात तक जारी रही। नगर के विभिन्न स्थानों पर दावतों का दौर भी चलता रहा।

शाम से सक्रिय हो गई थी पुलिस

नए वर्ष के जश्र को लोग शराब आदि के नशे में धुत्त होकर ना मनाए इसके साथ ही होटल और ढाबों में भी शराब ना परोसी जाए इसको लेकर जहां पुलिस और प्रशासन द्वारा एक दिन पहले ही होटल-ढाबा संचालकों की बैठक लेकर समझाईश दी जा चुकी थी। वहीं शुक्रवार शाम से ही पुलिस शहर की सड़कों सहित होटल-ढाबों के आसपास सक्रिय दिखाई दी। रात्रि में भी पुलिस की लगातार सायरन बजाते हुए गश्त हो रही थी। कुल मिलाकर कोविड गाइडलाइन के चलते सभी को 11 बजे रात को ही जश्र को समाप्त करना पड़ा।

मंदिरों में दर्शन करने उमड़ेगी भीड़

नए वर्ष के प्रथम दिन लोग भगवान की पूजा अर्चना और दर्शन कर शुरूवात करेंगे। इसके लिए लोग सोनाघाटी, हनुमान डोल, बालाजीपुरम, गुफा, केरपानी, लमटी हनुमान, अर्जुन गोंदी, जठानदेव, जटाशंकर, भोपाली सहित अन्य मंदिरों में पहुंचकर पुण्य लाभ अर्जित करेंगे। इसके साथ ही लोग पिकनिक का भी परिवार सहित आनंद उठाएंगे।

सोशल साइट्स पर संदेशों की बाढ़

नए साल के स्वागत का उल्लास सोशल साइट्स पर भी छाप छोड़ गया। तरह-तरह के संदेशों से लोग ईष्ट-मित्रों को नववर्ष की मुबारकबाद देते रहे। रात के बारह बजते-बजते सोशल साइट्स पर ऐसे संदेशों की बाढ़ सी आ गई।