जादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम अंतर्गत ए.डी.आर. भवन, जिला मंदसौर में विधिक साक्षरता शिविर सम्पन्न 

महावीर अग्रवाल
 मन्दसौर ९ नवंबर ;अभी तक;       राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण, नई दिल्ली एवं म.प्र. राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, जबलपुर के दिशा-निर्देशानुसार दिनांक 02.10.2021 से 14.11.2021 तक आजादी का अमृत महोत्सव कार्यक्रम के अनुक्रम में माननीय प्रधान जिला न्यायाधीश/अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, मंदसौर श्री विजय कुमार पाण्डेय के मुख्य आतिथ्य में दिनांक 08.11.2021 को स्थान ए.डी.आर. भवन, मंदसौर में विधिक साक्षरता शिविर एवं मीडिएशन जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया।
                     उपरोक्त जागरूकता शिविर में माननीय प्रधान जिला न्यायाधीश/अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, मंदसौर श्री विजय कुमार पाण्डेय द्वारा सर्वप्रथम आजादी के अमृत महोत्सव मनाने का महत्व वर्णित करते हुए आजादी का आशय स्पष्ट कर कहा कि आजादी का वास्तविक अर्थ एक सभ्य समाज का निर्माण करना व कानून का पालन करना एवं समाज में दूसरों के अधिकारों को ध्यान रखते हुए जीवन व्यतीत करना है। साथ ही मध्यस्थता के माध्यम से अधिक से अधिक प्रकरणों को चिन्हित कर, उन्हे रेफर कर, निराकृत किये जाने हेतु अधिकतम प्रयास पर बल दिया एवं मध्यस्थता के द्वारा निराकृत प्रकरणों से पक्षकारों को होने वाले लाभों को बताया।
                    जिला न्यायाधीश/सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, मंदसौर श्री मो. रईस खान द्वारा आजादी के अमृत महोत्सव अंतर्गत दिनांक 02 अक्टूबर 2021 से दिनांक 14 नवम्बर 2021 तक निरंतर चलाये जा रहे अभियान में आमजन को निरंतर जागरूक करने व विभिन्न जागरूकता गतिविधियों को शहरी व ग्रामीण स्तर पर आयोजित किये जाने संबंधी जानकारी प्रदान की। इस अवसर पर श्री खान द्वारा राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण नई दिल्ली एवं म.प्र. राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, जबलपुर की योजनाओं के बारे में बताया तथा दिनांक 09.11.2021 को ग्राम उदपुरा में आयोजित होने वाले मेगा विधिक साक्षरता शिविर में ग्रामीणवासियों को विभिन्न शासकीय जनहितार्थ योजनाओं का लाभ दिये जाने हेतु विभिन्न विभागों द्वारा शिविर में स्थापित किये जाने वाले स्टॉल की भी जानकारी दी।
                      उपरोक्त शिविर में श्री विजय कुमार पाण्डेय प्रधान जिला न्यायाधीश, श्रीमान् अनीष कुमार मिश्रा विशेष न्यायाधीश, श्री किशोर कुमार गेहलोत प्रथम अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश, श्री इन्द्रजीत रघुवंशी पंचम अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश, श्री संतोष चौहान चतुर्थ अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश, श्री आशीष प्रताप सिंह मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट, श्रीमती मंजू सिंह सिविल जज वर्ग-1 एवं न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी, श्री आलोक प्रताप सिंह सिविल जज वर्ग-1 एवं न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी, श्रीमती विश्वेश्वरी मिश्रा सिविल जज वर्ग-1 एवं न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी, श्री समीर कुमार मिश्र, सिविल जज वर्ग-1 एवं न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी, श्री राहुल सोलंकी चतुर्थ सिविल जज वर्ग-2 एवं न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी, सुश्री देशना जैन, प्रथम सिविल जज वर्ग-2 एवं न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी, सुश्री वैशाली पटेलिया द्वितीय सिविल जज वर्ग-2 एवं न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी, सुश्री राजेश्वरी जर्मन तृतीय सिविल जज वर्ग-2 एवं न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी, पैरालीगल वालेंटियर, पैनल अधिवक्ता, इत्यादि उपस्थित रहे।
                     इसी अनुक्रम में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के पैरालीगल वालेंटियर्स एवं पंचायत सचिवों की टीमों द्वारा ग्राम उदपूरा, कोलवा, गिरधारी, पालिया मारू, गरेड़िया, पिपलिया कराड़िया, मालिया खर खेड़ा, डिगाव खुर्द, जगाखेड़ी, छोटी डिगाव, डिगाव, पानपुर, आक्या पत्तू, दमदम, लबदड़ी, मोहम्मदपुरा, बाजखेड़ी, अर्निया, करनाखेड़ी, लसुड़िया इला, दलौदा सागरा, सगवाली इत्यादि स्थानों में जाकर आमजन को राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण, नई दिल्ली एवं म.प्र. राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण, जबलपुर द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं व कानून के प्रति जागरूक करने के लिए विद्यालयों, ग्राम पंचायत भवन व ग्रामीणजनों के बीच जाकर डोर-टू-डोर अभियान एवं विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया। साथ ही ग्रामीणजनों की विभिन्न समस्याओं को भी सुनकर उक्त समस्याओं के निदान हेतु आवश्यक सलाह प्रदान की गई। डोर टू डोर अभियान एवं विधिक साक्षरता शिविरो में पेम्प्लेट्स इत्यादि वितरित किए गए।