जिला अस्पताल के मेटरनिटी वार्ड से चोरी नवजात शिशु को कोतवाली पुलिस ने किया बरामद

11:26 am or December 25, 2021
आशुतोष पुरोहित
खरगोन 25 दिसम्बर ;अभी तक;  खरगोन कोतवाली पुलिस ने जिला अस्पताल के मेटरनिटी वार्ड से चोरी  नवजात शिशु को बरामद करने की बडी सफलता हासिल की है। पुलिस ने बच्चा चोरी करने वाली दो महिलाओ को भी हिरासत में लिया है।
                     गुरूवार-शुक्रवार की दरम्यानी रात जिला अस्पताल से चार दिन का नवजात बच्चा चोरी हो गया था। मात्र 5 हजार रूपये के लिये  नवजात की चोरी करने और खरीदने वाली दोनो महिला को  कोतवाली पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। पुलिस आरोपी महिलाओं से पूछताछ कर रही है। इस मामले में और आरोपीयो की आशंका के चलते पुलिस महिलाओं से पूछताछ कर रही है।
                   एसपी सिद्धार्थ चौधरी ने खुद जिला अस्पताल पहुंचकर परिजनो को इस दौरान नवजात सौपा। परिजनो की खुशी का ठिकाना नही था पुलिस सहित एक दूसरे को मिठाई खिलाकर परिजनो ने जमकर खुशीयाॅ मनाई। परिजनो का कहना था की आज ही बच्चे का जन्म हुआ है। गौरतलब है की एक आरोपी महिला जिला अस्पताल से बच्चा चोरी करके ले जाते सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई थी। नवजात की चोरी का मामला बच्चा बेचने के रूप में सामने आ रहा है। मात्र 5 हजार रूपये के लिये आरोपी महिला ने दूसरी आरोपी महिला जिसकी दो लडकियों थी लडके की चाह में नवजात की चोरी करने की घटना को अन्जाम दिया।
                      जिला अस्पताल नवजात को परिजनो को सौपने पहुंचे एसपी सिद्धार्थ चौधरी ने मीडिया को बताया की बच्चा चोरी करने के मामले कोतवाली पुलिस ने 24 घन्टे में दो आरोपी महिलाओ को गिरफ्तार किया है। बच्चा चोरी करने वाली महिला का पति जेल में बंद है आर्थिक तंगी के लिये मात्र 5 हजार के लिये बच्चा चोरी किया। दूसरी आरोपी महिला को दो लडकियाॅ थी उसने नवजात की चोरी कराई थी। सीसीटीवी फुटेज में बच्चा चोरी कर ले जाते महिला कैद हुई थी।
                     कोतवाली पुलिस ने मुखबिरो की मदद से लगातार 24 घन्टे में ही नवजात की चोरी का खुलासा किया है। इधर बच्चा मिलने की खुशी में पुलिस प्रशासन का शुक्रिया कर रहे बच्चे के नाना राठान आदिवासी भीकनगांव का कहना है की बच्चे का नया जन्म हुआ है। सकुशल बच्चा क्रिसमस के दिन ईशु मसीह के जन्मदिन पर पुलिस ने सौपा है। कोतवाली पुलिस की जितनी तारीफ की जाये कम है पुलिस ने रात दिन एक कर बच्चे को ढूढ निकाला है। हमे नई जिदगी मिल गई। गौरतलब है की तीन दिन पहले गोगांवा थाने के पीपलाई गांव के नेहा  संदीप के यहाॅ पहली सन्तान बमनाला अस्पताल में हुई थी। खून की कमी के चलते जिला अस्पताल खरगोन रैफर किया गया था।