जिला चिकित्सालय प्रशासन ने अटेंडरों को मरीज से मिलने व खाना देने के लिए ₹10 का पास जारी किया

भिंड से डॉक्टर रवि शर्मा

भिंड २ मई ;अभी तक; भिंड जिला चिकित्सालय में कोविड-19 को देखते हुए दोपहर कलेक्टर व एसपी के राउंड के बाद जिला प्रशासन स्वास्थ्य प्रशासन की ओर से एडवाइजरी जारी कर दिए कि जो भी व्यक्ति जिला चिकित्सालय में अपने मरीज को खाना या खाद्य पदार्थ पानी देने जाना है तो पहले ₹10 का गेट पास बनवाने और फिर अंदर जाने दिया जाएगा यह पास सिर्फ एक बार ही चलेगा ।

सूत्र द्रा कल एक महिला का परिजन कोविड-19 वार्ड में भर्ती था वह जिला चिकित्सालय के परिसर के अंदर हेड पंप से पानी से अपने बर्तन खाने पीने के लेकर के साफ करने के लिए आई क्योंकि महिला ग्रामीण क्षेत्र की थी उसे यह मालूम नहीं था कि अभी अभी जिला प्रशासन मैं पुलिस प्रशासन के आला अफसर जय चिकित्सा प्रशासन ने एडवाइजरी जारी कर वापस जाने के लिए मरीज तक पहुंचने के लिए ₹10 का पास बनवाने के लिए गाड़ने का उसने कहा कि मेरे पास तो ₹10 भी नहीं मैं पास कैसे बनाऊं मैं तो बर्तन धोने आई थी मरीज के पास जा रही हूं वहां उपस्थित पुलिसकर्मी इतनी बेरहमी से उस महिला को जलाकर दौड़े चाहिए तो सिरका का पासवर्ड वाई ए उसके बाद अंदर जा सकती है भाई तुम्हारा मरे या जिंदा रहे इस पर एक व्यक्ति ने अपनी जेब से तरस खाकर उक्त महिला को ₹10 का पास बनवा कर दीया तब महिला अंदर जा सकी इधर सरकार कोविड-19 मरीज को संक्रमित मरीजों को ऑक्सीजन तक उपलब्ध नहीं करा पा रही है एक 1 घंटे ऑक्सीजन नहीं मिलती मरीजों को 400 वोल्ट का मरीज चिकित्सालय उसमें एक 1 घंटे ऑक्सीजन सप्लाई नहीं हो रही है बताया जा रहा है कि ऑक्सीजन सिलेंडर मालनपुर से भिंड आते में ही लूट रहे हैं सूत्रों द्वारा मिली जानकारी के अनुसार सिलेंडरों की कीमत ₹100000 तक पहुंच गई है इसलिए चोर चोरी करना भूल गए हैं अब सिलेंडर को चुराना चालू कर दिया है और इधर प्रशासन ने क्या वे संक्रमित ₹10 का टू कर ली संक्रमित भी ले पर्ची दिखाओ अंदर जाओ संक्रमित हो या ना हो अंदर जाकर संक्रमण फैलाव इससे यह प्रतीत होता है कि सरकार ₹10 की लालच में जिला चिकित्सालय में ₹10 की पर्ची चालू की है उसे तत्काल बंद करें सोशल डिस्टेंसिंग का पालन तो करवा नहीं पा रही इधर ₹10 की पर्ची और चालू कर दी है जिस से संक्रमित व्यक्ति पर चला जाता है और अंदर जाकर जिला चिकित्सालय परिसर में संक्रमण विवेला आता हो तो कोई बड़ी बात नहीं बात सिर्फ ₹10 की है जिला चिकित्सालय के प्रमुख गेट पर सब इंस्पेक्टर व अन्य चार लोगों को इसीलिए भी डाल दिया है कि पर्ची देखो ₹10 की है कि नहीं मिली जानकारी के अनुसार चाय वे मरीज के साथ है टेंडर हो या ना हो बस अब आप जिला चिकित्सालय में ₹10 में अगर कोई संक्रमित है तो बड़े आराम से ₹10 की पर्ची कटवाए पूरे चिकित्सालय में संक्रमण फैला सकता है इस और प्रशासन का ध्यान नहीं यह मैंने मध्य प्रदेश में पहली बार ऐसा आदेश भिंड में देखा भिंड जिला चिकित्सालय में देखा एक दिवस ग्रामीण महिला के पास जिसका पति अंदर को कोरोना संक्रमित एक बर्तन धोने एल्बम पराई उसके पास ₹10 ना होने पर पुलिस वालों ने उसे अंदर नहीं आने दिया रात एक व्यक्ति ने ₹10 की पर्ची कटवा कर उक्त महिला को दी और तब वह अपने मरीजsinha54 तक पहुंच सके यह हाल है जिला चिकित्सालय का