जिले के  10 स्थानों पर आयोजित हुआ साथिया प्रशिक्षण शिविर, 252 साथिया ने लिया प्रशिक्षण, मिला साथिया किट

6:21 pm or October 12, 2021
जिले के  10 स्थानों पर आयोजित हुआ साथिया प्रशिक्षण शिविर, 252 साथिया ने लिया प्रशिक्षण, मिला साथिया किट
एस  पी वर्मा
सिंगरौली १२ अक्टूबर ;अभी तक;  किशोर-किशोरियों के  शारीरिक व मानसिक बदलाव से होने वाले परेशानियों व उलझनों के  बेहतर  समाधान  हेतु  राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य विभाग के निर्देश , मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी सिंगरौली एन के जैन के मार्गदर्शन व जिला कार्यक्रम अधिकारी सुधांशू मिश्रा के नेतृत्व में जिले के  वैढन, देवसर व चितरंगी में साथिया प्रथम बैच प्रशिक्षण शिविर  10 स्थानों पर आयोजित हुआ जिसमें पूरे जिले से ढाई  सैकड़ा *साथिया* शामिल हुए। प्रशिक्षण उपरांत सभी प्रशिक्षणार्थी को  साथिया कीट का वितरण किया गया।
         राष्ट्रीय स्वास्थ्य कार्यक्रम का संचालन कर रही एचएलएफपीपीटी संस्था द्वारा वै ढ़ न ब्लॉक में 2 , देवसर में 3 व चितरंगी में 5 स्थानों पर  आयोजित साथिया प्रशिक्षण शिविर का निरीक्षण जिला समन्वयक अधिकारी संतोष पाण्डेय व एचएल एफपीपीटी संस्था की सिंगरौली प्रोजेक्ट कोऑर्डिनेटर ममता वर्मा ने किया। निरीक्षण के दौरान डी सी श्री पांडेय ने प्रशिक्षणार्थी साथिया को बताया कि 10 से 19 वर्ष के किशोर -किशोरियों को इस उम्र में कई शारीरिक व मानसिक बदलाव होते हैं इन बदलावों से किशोर किशोरियों को परिचित कराने के लिए साथिया टीम की जरूरत पड़ती है जो उनका सही तरीके से काउंसिलिंग कर उन्हें जिले के प्रत्येक सीएचसी में मौजूद किशोर क्लिनिक में ले जाकर उनके समस्या का समाधान करवाये। इसके लिए साथिया टीम का पूरी तरह से दक्ष होना बहुत जरूरी है।प्रोजेक्ट कोऑर्डिनेटर ममता वर्मा ने प्रशिक्षण ले रहे सभी साथिया को बताया कि 10-19 वर्ष उम्र एक परिवर्तनशील है तथा विकास की एक एक बहुत ही महत्वपूर्ण अवस्था है। इस अवस्था मे शारिरिक व मानसिक बदलाव बहुत तीव्रता से होते हैं और किशोर -किशोरियां यौन, मानसिक तथा व्यावहारिक रूप से परिपक्व होने लगते हैं इस उम्र में समस्याओ के विभिन्नता के साथ साथ जोखिम भी अलग-अलग होते हैं। श्रीमती वर्मा ने आगे बताया कि विवाहित व अविवाहित , स्कूल जाने वाले तथा न जाने वाले , ग्रामीण व शरीर क्षेत्र के किशोर-किशोरियों की यौन विषय पर जानकारी अलग-अलग होती है। इन्ही उलझनों को सुलझाने के लिए एक सच्चे साथी की जरूरत महसूस होती है और वह साथी स्वास्थ्य विभाग का प्रशिक्षित साथिया होता है।
*प्रशिक्षण ले रहे 252 को मिला साथिया किट*
उक्त साथिया प्रशिक्षण बैच का निरीक्षण करने पहुंचे डी सी श्री पांडेय व पीसी श्रीमती वर्मा ने सभी 252 प्रशिक्षणार्थी को साथिया किट वितरित किया। किट में टी शर्ट, एप्रन ,टोपी ,लोवर, छतरी व अन्य जरूरी सामान प्रमुख रूप से रहा है।

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *