जिले में नागरिकों के पलायन से बढ़ रही वैक्सीनेशन पेंडेंसी

मयंक भार्गव

बैतूल १५ सितम्बर ;अभी तक; जिले से बड़ी संख्या में मजदूरों के जिले से बाहर पलायन करने से जिले में वैक्सीनेशन की पेडिंग बढ़ रही है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा 8 से 11 सितंबर तक करवाए गए सर्वे के अनुसार जिले में प्रथम डोज लगाने वाले मात्र 1 लाख 87 हजार 858 नागरिक ही बाकी है। वहीं 75 गांव में सौ फीसदी वैक्सीनेशन हो गया। सर्वे में यह बात सामने आई कि ग्रामीण क्षेत्रों से मजदूरी के लिए लोगों के बाहर जाने से वैक्सीनेशन की पेडिंग बढ़ रही है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा करवाए गए सर्वे टीम के साथ कलेक्टर अमनबीर सिंह बैस ने प्रत्येक मतदान केन्द्र के बीएलओ और रोजगार सहायक को भी शामिल कर दिया है।

इस टीम ने मंगलवार से डोर टू डोर सर्वे शुरू कर दिया है जो वोटर लिस्ट के आधार पर वैक्सीनेशन की जानकारी एकत्रित करेगी। इसके साथ ही गांव से पलायन करने वालों की भी अलग जानकारी ली जाएगी जिससे लक्ष्य भी संशोधित हो जाएगा। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा 26 सितंबर तक सभी नागरिकों को वैक्सीन की फस्र्ट डोज लगाने के निर्देश दिए थे। इसके बाद पहले स्वास्थ्य महकमा ही अपनी ओर से प्रयास कर रहा था लेकिन अब प्रशासनिक अमला भी वैक्सीनेशन करवाने सक्रिय हो गया। जिले में कुल 12 लाख 4 हजार 662 नागरिकों को वैक्सीन लगाना है। सोमवार शाम तक जिले में 8 लाख 83 हजार 839 नागरिकों से प्रथम डोज लग गई है। जिले में अभी भी 3 लाख से अधिक नागरिकों को वैक्सीन की पहली डोज लगना है।
सर्वे में आई चौकाने वाली जानकारी
स्वास्थ्य विभाग द्वारा आशा कार्यकर्ताओं और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के माध्यम से जिले में 8 से 11 सितंबर तक प्रत्येक गांव में डोर टू डोर सर्वे करवाया गया था। इस सर्वे में कई चौकाने वाले तथ्य सामने आए। स्वास्थ्य विभाग द्वारा 11 सितंबर तक 8 लाख 63 हजार 495 नागरिकों को वैक्सीन लग चुका है। विभाग के अनुसार 11 सितंबर की स्थिति में 3 लाख 41 हजार 167 नागरिकों को फस्र्ट डोज लगाना बाकी था। जबकि सर्वे रिपोर्ट के अनुसार 1 लाख 87 हजार 858 नागरिकों को ही फस्र्ट डोज लगाना बाकी है। बाकी नागरिक घरों में नहीं मिले या फिर काम के लिए बाहर चले गए थे।
75 गांव में सौ फीसदी वैक्सीनेशन

सर्वे के अनुसार जिले में 75 गांव या नगरीय क्षेत्र के वार्ड ऐसे है जहां सौ फीसदी या उससे अधिक वैक्सीनेशन हो चुका है। सौ फीसदी वैक्सीनेशन वाले गांव में सर्वाधिक 32 गांव आमला ब्लॉक के है। वहीं बैतूल ब्लॉक में 15, घोड़ाडोंगरी में 11, पट्टन में 7, भैंसदेही एवं चिचोली में 3-3, आठनेर में 2, भीमपुर एवं शाहपुर ब्लॉक में 1-1 गांव में सौ फीसदी वैक्सीनेशन हो गया है। मुलताई ब्लॉक में सबसे कम 5644 नागरिकों को वैक्सीन लगाना है लेकिन मुलताई ब्लॉक में एक भी गांव ऐसा नहीं है जहां सौ फीसदी वैक्सीनेशन हुआ हो। इस सर्वे के अनुसार वैक्सीन लगवाने जिले में मात्र 1 लाख 87 हजार 858 नागरिक बाकी है जिसमें सर्वाधिक 38 हजार 863 भीमपुर ब्लॉक में बाकी है।
मतदाता सूची के हिसाब से सर्वे शुरू

स्वास्थ्य विभाग द्वारा किए गए सर्वे के बाद कलेक्टर अमनबीर सिंह बैस के निर्देश पर मंगलवार से वोटर लिस्ट के आधार पर सर्वे शुरू किया गया है। इस सर्वे में अब बीएलओ और रोजगार सहायक को भी शामिल किया है। जो प्रत्येक मतदाता के पास पहुंचकर वैक्सीनेशन की जानकारी लेंगे। इस दौरान वैक्सीनेशन नहीं करवाने वाले मतदाता को वैक्सीन लगाने प्रेरित भी करेंगे। इसके साथ गांव से पलायन करने वालों की अलग जानकारी एकत्र की जाएगी। जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग का प्रयास है कि 26 सितंबर तक जिले में रहने वाले 18 साल से अधिक उम्र के सभी नागरिकों को वैक्सीन की पहली डोज लग जाए