जिले मे सूचना अधिकार कानून की उड रही धज्जियां, कलेक्टर कार्यालय द्वारा आदेश जारी होने के एक माह बाद भी नही मिली जानकारी

11:01 am or July 22, 2022
पन्ना संवाददाता
पन्ना २२ जुलाई ;अभी तक; तत्कालीन केन्द्र सरकार द्वारा शासकीय विभागो से जानकारी प्राप्त करने के लिए आम नागरिको को सूचना का अधिकार कानून लागू किया गया था। जिसका उद्देश्य आम नागरिक शासन की योजनाओं तथा विभागो मे हो रही अनिमित्ताओं की जानकारी आसानी से प्राप्त कर सकें। लेकिन शासकीय अधिकारी उक्त कानून को मानने के लिए ही तैयार नही है तथा वरिष्ट अधिकारीयो को अपील करने के बाद आदेश होने के बावजूद जानकारी नही दे रहे है।
                    इसी प्रकार का मामला प्रकाश मे आया है आवेदक विनय पिता वीरेन्द्र पान्डेय निवासी ग्राम समाना तहसील देवेन्द्रनगर द्वारा देवेन्द्रनगर तहसील मे आवेदन लगाकर जानकारी चाही गई थी लेकिन तहसील कार्यालय के अधिकारीयों द्वारा जानकारी नही दी गई तो आवेदक द्वारा प्रथम अपील अधिकारी कलेक्टर न्यायालय मे आवेदन देकर जानकारी उपलब्ध कराने की अपील की गई थी जिस पर कलेक्टर द्वारा जानकारी उपलब्ध कराने के आदेश दिये गये थें। लेकिन एक माह बाद भी संबंधितो को जानकारी उपलब्ध नही कराई गई है। आगे देखना है आवेदक को जानकारी मिलती है या फिर आवेदक को राज्य सूचना आयोग मे द्वितीय अपील करने के लिए बाध्य होना पडेगा।