टंट्या मामा का बलिदान दिवस 4 दिसम्बर को श्रद्धा पूर्वक मनेगा ;शिवराज

मयंक शर्मा
खंडवा २० नवंबर ;अभी तक;  सीएम ने कहा टंट्या मामा का बलिदान दिवस 4 दिसम्बर को श्रद्धा
पूर्वक मनेगा।टंट्या मामा की शहादत से देश भक्ति और गरीबों की सेवा की
प्रेरणा मिलेगी। मुख्यमंत्री ने कहा पंधाना के बड़ौदा से टंट्या मामा के
कड़े और जन्मस्थली की मिट्टी की यात्रा निकली जाएगी जो पंधाना से शुरू
होकर पातालपानी पहुंचेगी।
           शिवराज ने कहा कि अंग्रेज उनके नाम से कांपते
थे। रॉबिन हुड की उपाधि उनको दी गई थी। ऐसे अमर शहीद क्रांतिकारी टंट्या
मामा ने मध्यप्रदेश की धरती पर खण्डवा जिले में जन्म लिया था। उनके
बलिदान के बाद उनका अंतिम संस्कार इंदौर जिले के महू के निकट पातालपानी
में हुआ था। अमर शहीद टंट्या मामा का 4 दिसम्बर को बलिदान दिवस है।
  हनुमंतिया में पर्यटन विकास निगम के वाटर क्लब से मुख्यमंत्री शिवराज
सिंह चैहान करीब 40 जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों के साथ क्रूज में सवार
हुए।  महोत्सव के लिए हनुवंतिया को दुल्हन की तरह सजाया गया है। इस वर्ष
सैलानियों के लिए इटली की रीगल बोट यहां आकर्षण का केंद्र रहेंगी।
इवेंट कंपनी के मैनेजर सरवन कुमार ने कहा कि हनुवतिया में टेंट सिटी के
50 से ज्यादा रूम बुक हो चुके हैं। यहां देशभर से सैलानी आनलाइन बुकिंग
करवा रहे है। विशेष रूप से गुजरात, महाराष्ट्र, दिल्ली के अलावा इंदौर,
भोपाल से बुकिंग ज्यादा है। वाटर स्पोट्र्स में बनाना राइड, बंपर
राइड,स्लीपिंग राइड, स्पीड बोट और क्रूज के अलावा इटली की रीगल बोट है।
इसमें एक साथ आठ लोग सवारी कर सकते हैं।
इंदिरा सागर के बेक वाटर में 27 टापू हैं। इनमें हनुवंतिया के अलावा
बोरियामाल ,गुंजारी और धारीकोटला को भी पर्यटन के लिए विकसित किया गया
है।