ट्ेन मे नकली क्राइम बांच अधिकारी बनकर साढे तीन लाख की लूट मं जीआरपी आरक्षक सहित चार गिरफतार: अन्य की तलाश

मातनक शर्मा
खंडवा २९ अक्टूबर ;अभी तक;  रेल्वे पुलिस( जीआरपी) खंडवा ने ट्रेन मे नकली क्राइम ब्रांच
अधिकारी बनकर धोखाधड़ी करने वाले आरोपियों को गिरफ्तार कर मशरुका जप्त
करने मे  सफलता दर्ज की है।
                 रेल्वे के भोपाल अधिकारी हितेन्द्र ने बताया कि  22 अक्अबर को  को ट्रेन
02168 अप वाराणसी एलटीटी एक्सप्रेस  के कोच एस-4 बर्थ नं0 49 पर यात्री
कृष्णकांत पिता गौतम पटेल उम्र 35 साल निवासी शंकर नगर सुहागी जबलपुर
,जबलपुर से एलटीटी की यात्रा कर रहा था। यात्रा के दौरान रेल्वे स्टेशन
बुरहानपुर आने के पहले दो अज्ञात व्यक्ति आये और अपने आपको क्राईम
ब्रान्च का बताकर बोले कि  तेरा बैग खोलकर दिखा । फरियादी द्वारा बताया
गया कि वह व्यापार करने मुम्बई जा रहा है। उसके बैग में कुछ नहीं है
।उन्होंने फरियादी का आधार कार्ड एवं टिकिट ले लिया एवं बैग जबरदस्ती
खुलवाकर देखा । जिसमें व्यापार के पाँच लाख रूपये थे। फरियादी को पैसे नहीं देने पर किसी
केस में फँसा देने की धमकी देकर ट्रेन के बाथरूम में ले जाकर डराकर
फरियादी से साढे तीन लाख रूपये हडप लिये। फरियादी क्राईम ब्राँच की बात
सुनकर घबरा गया था, इसलिए किसी से शिकायत नहीं की थी।
मुम्बई से लौटने परं अपने परिचितों से चर्चा किया। जिस पर 24 अक्अूबर को
खंडवा आाकर रेल्वे थाने में शिकायत की।  धारा 384,170,419, 34 भादवि का
अपराध कायम कर विवेचना में लिया गया।
                 खंडवा थाना प्रभारी बबीता कठेरिया द्वारा टीम बनाई गई ।टीम द्वारा मुखबिर
सूचना, विवेचना एवं तकनीकी विश्लेषण करके नकली क्राइम ब्रांच के कर्मचारी
बनकर धोखाधड़ी करने के आरोप में  वर्तमान मे जबलपुर मे तैनात एक आरपीएफ़
आरक्षक, एक बिल्डर, साधना-न्यूज संभागीय ब्यूरो चीफ एवं एक पूर्व बीजेपी
पार्षद के लिप्त होने पर  सभी को गिरफ्तार कर धोखाधड़ी का रकम 3.40 लाख
रूपये जप्त की गयी। शेष अन्य आरोपियों की तलाश की जा रही है जिनसे शेष
नगदी राशि जप्त की जाना है।
                   श्री कठेरिया ने बताया कि गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ में ज्ञात हुआ है
कि आरोपी नरेंद्र वर्मा की नजर स्थानीय व्यापारियों के पैसे के आवागमन पर
लंबे समय से थी । उसने ही फरियादी कृष्णकांत पटेल के व्यवसायिक आवागमन पर
नजर रखने के लिए कुछ लोगों को लगा रखा था । जब कृष्णकांत पटेल ट्रेन में
पैसा लेकर जाने के लिए तैयार हुआ तो उसने यह सूचना आरोपी सचिन राव से
शेयर की और आरोपी सचिन राव को जबलपुर से खंडवा तक फरियादी पर नजर रखने के
लिए नियुक्त किया। आरोपी सचिन राव ने खंडवा तक कृष्णकांत पर नजर रखी और
उसके बाद आरपीएफ आरक्षक संदीप तिवारी और सौरव शर्मा ने खंडवा से उस ट्रेन
की यात्रा शुरू की और कृष्णकांत से गांजा आदि के झूठे केस में फंसाने की
धमकी देते हुए पैसे ले लिए। इस पूरे षडयंत्र और कार्यवाही पर आरोपी
नरेंद्र वर्मा की लगातार नजर थी ।
                जीआरपी खंडवा की पड़ताल में इस बड़े रैकेट का खुलासा किया है।
गिरफ्तार आरोपी  –
1. संदीप तिवारी पिता चंद्रिका प्रसाद तिवारी  उम्र 34 साल निवासी-  न्यू
शोभापुर कॉलोनी जबलपुर  म.प्र. (आरपीएफ़ आरक्षक)
2. सचिन राव पिता स्व. श्री लक्ष्मण राव उम्र 43 साल निवासी म.न. 93
ग्वारीघाट रोड नर्मदा नगर जबलपुर जिला जबलपुर म.प्र (साधना-न्यूज संभागीय
ब्यूरो चीफ)
3. नरेंद्र वर्मा पिता स्व. ओपी वर्मा उम्र 50 साल  निवासी- शीतला माई
वार्ड नंबर 45 जबलपुर म. प्र. (पूर्व पार्षद बीजेपी )
4. सौरभ पिता वीरेंद्र शर्मा उम्र 43 साल निवासी- मकान नंबर 20 शीतला माई
वार्ड गमापुर, जबलपुर म.प्र. (इंद्रलोक सिटी बिल्डर) ।
———-