ढीमर माझी समाज की बैठक में शामिल हुए केंद्रीय मंत्री, अनुसूचित जनजाति दर्जा दिये जाने की उठी मांग

9:54 pm or June 6, 2022

प्रहलाद कछवाह

मंडला 06 जून ;अभी तक;   नगर के निषादराज मंगल भवन में ढीमर-माझी समाज की बैठक का आयोजन किया गया। जिसमें केंद्रीय इस्पात एवं ग्रामीण विकास राज्यमंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते शामिल हुए। इस दौरान माझी समाज द्वारा केंद्रीय मंत्री को ज्ञापन सौंप कर मल्लाह, केवट, ढीमर और भोई उपजातियों को अनुसूचित जनजाति में शामिल किये जाने की मांग रखी। उन्होंने अपने ज्ञापन में बताया कि माझी समाज की मल्लाह, केवट, ढीमर और भोई उपजातियां 1950 से अनुसूचित जनजाति समुदाय में शामिल है, किंतु मध्य प्रदेश पिछड़ा वर्ग सूची क्रमांक 12 पर मल्लाह, केवट, भोई, ढीमर को साल 1984 में असंवैधानिक रूप से शामिल करके उन्हें अनुसूचित जनजाति के लाभ से वंचित कर दिया गया। माझी समाज ने केंद्रीय मंत्री से मप्र पिछड़ा वर्ग सूची क्रमांक 12 से मल्लाह, केवट, भोई, ढीमर, कहार को विलोपित किये जाने की मांग रखी।

                         फग्गनसिहं कुलस्ते ने कहा कि मांझी समाज द्वारा अनुसूचित जनजाति का दर्जा प्राप्त करने का ज्ञापन सौंपा है। समाज के प्रमुख लोगों के साथ मुख्यमंत्री से मिलकर बात करेंगे। बैठक में समाज के केसरी नंदा, श्रीलाल नंदा, थामन बरमैया, दीना रैकवार, पदमा नंदा, शेखर सिंधिया, रमेश नंदा, बेसाखू नंदा, ब्रजेश कुमार बर्मन, पुहुप सिहं भारत, धु्रव नंदा कालका मांझी, प्रेमलाल बर्मन दिवरिया, सुखलाल बरमैया, लखन बरमैया, अशोक नाविक, राजेन्द्र मांझी, सुखचैन मांझी, परसु नंदा, मंगल बर्मन,खूबचंद नंदा, अमित नंदा, महेन्द्र नंदा, मंगल बर्मन,सहित समाज के अन्य लोग शामिल रहे।