ताखाजी माइक्रो इरिगेशन प्रोजेक्‍ट को मिले स्वीकृति, एवं शामगढ़-सुवासरा सुक्ष्म सिंचाई योजना में शामिल हो वंचित 39 गांव, विधायक देवीलाल धाकड़

5:32 pm or December 27, 2021

महावीर अग्रवाल

मन्दसौर / गरोठ २७ दिसंबर ;अभी तक;  ताखाजी माइक्रो इरिगेशन प्रोजेक्‍ट शामगढ़ पठार क्षेत्र के लिए महत्वपूर्ण परियोजना है वर्तमान टी.एस. प्राप्‍त होने के उपरांत एस.एफ.सी. में प्रकरण विचाराधीन हैं। जल्द उक्त परियोजना की स्वीकृति मिलती है तो यह शामगढ़ ही नही विधानसभा क्षेत्र के लिए  महत्वपूर्ण उपलब्धी होगी। वहीं शामगढ़-सुवासरा सुक्ष्म सिंचाई योजना लागत करीब 1662 करोड रुपए  का कार्य प्रगति पर है। उक्त योजना में करीब 67 ग्राम शामिल किए गए है लेकिन करीब 39 गांव जोे योजना से लगे हुए है उन्हे परियोजना से वंचित रखा है उक्त गांवों को योजना में शामिल किया जाता है यहां के किसानों को सिंचाई सुविधा का लाभ मिलेगा। उक्त बात गरोठ विधायक देवीलाल धाकड़ ने मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के सामने रखी। भोपाल प्रवास के दौरान विधायक धाकड़ ने एक बार फिर मुख्यमंत्री से भेंट की और अपने विधानसभा क्षेत्र में जलसंसाधन विभाग अंतर्गत चल रही सिचाई परियोजनाओं के संबंध में चर्चा की और परियोजनाओं के विकास में आ रही समस्या को मुख्यमंत्री जी के सामने रखा। मुख्यमंत्री ने उक्त सभी की जल्द स्वीकृति का आश्वासन दिया।
*इन परियोजनाओं की चर्चा*

*भानपुरा नहर परियोजना की एल.बी.सी.ओपन नहर का विस्तार*
नहर का कार्य शत.प्रतिशत पूर्ण होने के उपरांत सिंचाई के दौरान कमाण्ड क्षेत्र में सिंचाई हेतु कृषकों को काफी दूरी से अत्यधिक लागत लगाकर सिंचाई का पानी ले जाना पडता है पुरे नेटवर्क में छोटी-छोटी 6 सब माईनर का अतिरिक्त निर्माण हेतु प्रशासकीय स्वीक्रति भी प्राप्त हैं इनका जल्द कार्य प्रारंभ करवाने हेतु विभागीय अधिकारियों को आदेश प्रदान कर उचित सहयोग प्रदान करे।
*गरोठ माईक्रो इरिगेशन*
प्रोजेक्‍ट द्वारा 21 हजार 400 हेक्‍टेयर में सिंचाई का लक्ष्य निर्धारित है लेकिन
सिंचाई के दौरान कृषकों को समस्‍त ग्रामों में सिंचाई के पाईंट कम दिये गये है जिससे कृषकों को आर्थिक लागत का अतिरिक्‍त भार वहन करना पड रहा है और विवाद की स्थिति बन रही हैं। अत सिंचाई पाईंट में वृद्धि कर किसानों को राहत देना उचित होगा।
*गॉघी सागर बांध संभाग के अंतर्गत निर्मित सिचाई जलाशयों का संधारण करने संबंधी*
भानपुरा परियोजना की नहरों के द्वारा सिंचाई का पर्याप्त पानी उपलब्‍ध होने के कारण चौहुमूखि सर्वागीण विकास हुआ है जिससे आर्थिक समृद्धि भी हुई है । लेकिन पूर्व निर्मित सिंचाई जलाशयो का संधारण नही होने से क्षेत्र के जल स्‍तर में कमी आ रही है संधारण के अभाव में एवं दो वर्ष पूर्व की अतिवृष्ठि के कारण लेदी एवं सम्‍मतखेडी के तालाब टूट चुके है जिनकी मरम्‍मत की जाना आवश्यक है। इस संबंध में विभाग ने प्रकरण तैयार कर वरिष्ठ अधिकारियों को भेजा हैं साथ ही शेष तालाबों का संधारण किया जाना आआवश्यक हैं। यदि तालाबों में पानी आरक्षित रहता है तो कुओं का जल स्‍तर बना रहने के कारण क्षेत्र में सिंचाई की सुविधा बनी रहेगी व भविष्‍य में इन तालाबों से ग्राम पंचायतो के पेयजल योजना एवं मत्‍स्‍य पालनए सिंघाडे की खेतीए खरबुज, तरबुज, ककडी की खेती की जाकर क्षेत्र का आर्थिक विकास भी होगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जल्द सभी प्रकरण की स्वीकृति देने की बात कही।
*मृतक के परिजन को मिले आर्थिक सहायता*
गरोठ विधानसभा क्षेत्र के ग्राम भैसादा में दिनांक 12 दिसंबर 2021 को एक कार्यक्रम चल रहा था। इस दौरान लाठिया चली और फायरिंग हुई। जिसमें देवीलाल जी रावत (मीणा) का निधन हो गया था। उक्त घटना के आक्रोशित परिजनों ने विरोध प्रदर्शन किया और मुख्य सड़क मार्ग बंद भी किया था। विधायक धाकड़ ने उक्त घटना से मुख्यमंत्री को अवगत कराया। उन्होने घटना के आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई कर मृतक के परिजनों को आर्थिक सहायता राशि प्रदान करने की मांग की।