तापमान में आया उछाल, 8.4 डिग्री पहुंचा न्यूनतम तापमान शीत लहर रूकने से बढ़ा तापमान, लोगों को मिली राहत

11:45 pm or December 26, 2021

नारायणगंज से प्रहलाद कछवाहा

मंडला 26 दिसबंर. ;अभी तक; जिले में विगत दिनों न्यूनतम तापमान  में आई कमी के कारण पूरा जिला शीतलहर की चपेट में आ गया था। लोग दिन भर गरम कपड़ों में नजर आ रहे थे। लेकिन विगत तीन दिन से तापमान में आए उछाल के कारण लोगों को कड़कड़ाती ठंड से राहत मिली। जहां विगत दिवस पहले 2.8 डिग्री तापमान था। धीरे-धीरे तापमान बढ़ता गया और तापमान करीब 4 से 5 डिग्री सेल्सियस उछाल मारा और तापमान रविवार को 8.4 डिग्री हो गया। जिले का अधिकतम तापमान 28.4 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया है। आगे मौसम में और सुधार की उम्मीद है। अब रात दिन के पारे में उछाल आएगा।

बताया गया कि तापमान में उछाल हवा की दिशा बदलने से आया है। विगत दो दिनों से मौसम में शुष्क होने के कारण तापमान में उछाल आया है। मौसम शुष्क रहने का कारण पश्चिमी विक्षोभ का असर पड़ रहा है। मौसम वैज्ञानिकों केअनुसार आने वाले दिनों में बादल छाने के भी आसार नजर आ रहे है।  हवा की रफ्तार धीमी पडऩे से रात के पारे में वृद्धि हुई है हालांकि पारा अभी भी सामान्य से कम बना हुआ है। मौसम विभाग की मानें तो अगले दो-तीन दिन तक तापमान कम ज्यादा होता रहेगा। बता दें कि नए साल पर बहुत ज्यादा ठंड की संभावना नहीं है।

कड़कड़ाती ठंड से मिली राहत :

जिले में हाड कपा देने वाली ठंड पड़ रही थी। तापमान काफी नीचे चले जाने से लोग रात के समय तो घर से नहीं निकल पा रहे थे। लेकिन अब ठंड से कुछ राहत मिली है। जिले में तापमान में उछाल आया है। ठंड का असर थोड़ा कम जरूर है पर राहत अभी नहीं मिली है। जिले में शनिवार को अधिकतम तापमान 28.2 डिग्री और न्यूनतम तापमान 9.4 डिग्री सेल्सियस था। अधिकतम तापमान में उछाल आया है। जिसके बाद रविवार को अधिकतम तापमान 28.4 डिग्री हो गया। वहीं न्यूनतम तापमान शनिवार को 9.4 डिग्री था, जिसमें 01 डिग्री की कमी आने के बाद रविवार को न्यूनतम तापमान 8.4 डिग्री सेल्सियस रहा।  ठंड से राहत मिलती अभी दिखाई नहीं दे रही है। देर शाम होते ही ठंड  का असर दिखाई देने लगता है। पाले की संभावना भी बनी हुईहै।

पाला से बचाव के उपाए :

बताया गया कि जिस रात पाला पडऩे की संभावना हो उस रात 12 से 2 बजे के आस-पास खेत की उत्तरी पश्चिमी दिशा से आने वाली ठंडी हवा की दिशा में खेतों के किनारे पर बोई हुई फसल के आसपास, मेढ़ों पर रात्रि में कूड़ा-कचरा या अन्य व्यर्थ पदार्थ जैसे घास-फूस जलाकर धुआं करना चाहिए, जिससे खेत में धुआं हो जाए एवं वातावरण में गर्मी आ जाए। धुआं करने के लिए उपरोक्त पदार्थों के साथ क्रूड ऑयल का प्रयोग भी कर सकते हैं। इस विधि से 4 डिग्री सेल्सियस तापमान आसानी से बढ़ाया जा सकता है।