तेलिया तालाब के सीमांकन के कार्य में 4 लोगों की समिति सुरविजन करेंगी – कलेक्टर

महावीर अग्रवाल
मंदसौर 23 अक्टूबर ;अभी तक; कलेक्टर श्री मनोज पुष्प की अध्यक्षता में राष्ट्रीय हरित न्यायाधिकरण द्वारा तेलिया तालाब के संबंध में पारित आदेश के परिप्रेक्ष्य में तेलिया तालाब से संबंधित जिला अधिकारियों की बैठक सुशासन भवन स्थित सभाकक्ष में आयोजित की गई। बैठक के दौरान अपर कलेक्टर श्री बीएल कोचले, मन्दसौर एसडीएम श्री वीरप्रताप सिंह, पीओ डूडा श्री जेके जैन, नगर पालिका, सिंचाई विभाग, पीएचई विभाग, तहसीलदार उपस्थित थे।
                             बैठक के दौरान निर्णय लिए गए कि जल संसाधन विभाग के पास तेलिया तालाब का मूल नक्शा उपलब्ध है। जो ब्रिटिश कालीन समय का है। इसका मिलान नगर पालिका के पास उपलब्ध वर्तमान नक्शे से की जायेगी। नगर पालिका, राजस्व विभाग एवं जल संसाधन विभाग मिलकर दोनों नक्शे की भिन्नता को चिन्हांकित करेंगे। दोनों के नक्शे में अगर भिन्नता आती है, तो समिति भिन्नता को सामने लाएगी तथा जानकारी प्रदान करेगी। तेलिया तालाब में स्थाई सीमा चिन्ह के आधार पर चिन्हांकन भी किया जाएगा।
                           तेलिया तालाब का सीमांकन का कार्य किया जाएगा। इसके लिए वरिष्ठ अधिकारियों की समिति बनाई गई है। जिसमें जल संसाधन विभाग के कार्यपालन यंत्री, मन्दसौर एसडीएम, नगर पालिका सीएमओ, अधीक्षक भू-अभिलेख को नियुक्त किया गया है। यह चारों अधिकारी सीमांकन में सुपरविजन का कार्य करेंगे। इसके साथ ही सीमांकन के लिए फील्ड टीम का भी चयन करेंगे। इसके साथ ही सीमांकन की समयावधि भी तय करेंगे। सीमांकन के लिए तालाब के आसपास रहने वाले रहवासियों, तालाब की याचिका से जुड़े लोग एवं अन्य प्रतिनिधियों की भूमिका सीमांकन की प्रक्रिया तय करेगी। इसके पश्चात फिल्ड टीम सीमांकन का कार्य करेगी।
                       टीएनसीपी तेलिया तालाब की परिधि में नई परियोजना, नई नक्शे, नए निर्माण कार्य के लिए नगरपालिका अनुमति प्रदान नहीं करेगी। इन निर्देशों का पालन करने के लिए नगरपालिका एक दल का गठन करेगी, जो देखेगी कि संबंधित निर्देशों का पालन किया जा रहा है या नहीं।
                        तेलिया तालाब में सीवरेज एवं गंदा पानी रोकने के लिए नगरपालिका डीपीआर एवं एसटीपी तैयार करेगी। जिसको तैयार करने के पश्चात शासन को भेजा जाएगा। तब तक जो गंदा पानी तेलिया तालाब में आ रहा है, उसको रोकने के लिए अभियान चलाएगी। नगर पालिका तालाब पर एक बोर्ड भी लगाएगी, जिसमें यह निर्देश लिखे होंगे कि तेलिया तालाब को गंदा ना करें। इसमें कचरा ना फेंके। अगर कोई कचरा फेकता है, तो उसको दंडित भी किया जाएगा।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *