त्वरित टिप्पणी:- 10 नम्बर नाके पर आकर कर दिया नम्बरी खेल

10:38 pm or July 26, 2022
डॉ राघवेन्द्रसिंह तोमर
मानवाधिकार कार्यकर्ता
मन्दसौर
मन्दसौर २६ जुलाई ;अभी रक;  मन्दसौर नीमच जिले में मादक पदार्थों की तस्करी के कई बड़े मामले सामने आते रहते है । सभी मामलों पर किसी न किसी रूप में उंगली उठती रही है । अधिकतम मामलों में मुख्य तस्करों पर कार्यवाही न होकर कोरियर के रूप में काम करने वाले नव युवकों को या फर्जी रूप से नाम डालकर केस बनाये गए है । हमेशा पुलिस व तस्करों की सांठगांठ का खेल मन्दसौर नीमच में पहले से चलता आ रहा है जो आज भी निरंतर जारी है । पूर्व पुलिस अधीक्षक सुनील पांडेय व वर्तमान पुलिस अधीक्षक अनुराग सुजानिया ने अपनी जिले में आमद के साथ एक बड़ा संदेश दिया था कि सिर्फ टारगेट पूरे करने के लिए एनडीपीएस एक्ट के मामले नहीं बनाए जाएं । जो तस्करी कर रहे है उन्हें रोका जाए व मादक पदार्थों के तस्करों को नेस्त नाबूत किया जाए । इस पर काफी हद तक अमल भी हुआ । कई थानेदारों ने अपने पूरे महकमे को खुले तौर पर हिदायत भी दे डाली कि कोई भी गलत केस न बनाये । लेकिन मन्दसौर जिले में गुणावत बनने की होड़ में कुछ धंधेबाज पुलिस अधिकारी नहीं मान रहे है । मन्दसौर कोतवाली पुलिस द्वारा मल्हारगढ़ थाना क्षेत्र के मक्खन सिंह के ढाबे से तीन युवाओं को अचानक उठाया और 10 नम्बर नाके पर आकर नम्बरी खेल कर दिया । इस पूरी कार्यवाही पर सवाल इसलिए उठता है कि एक सब इंस्पेक्टर अपने सिपाही के साथ लाल रंग की बिना नम्बर की गाड़ी से सादी वर्दी में मक्खन सिंह के ढाबे गया वहां से दो मोटरसाइकल सहित तीन युवकों को 10 नम्बर नाके लेकर आया और एक युवा पर केस दर्ज कर दिया । थाने पर 12 पेटी का खेल हुआ। उसके बाद एक बीए द्वितीय वर्ष के 20 वर्षीय छात्र को प्रकरण में आरोपी बनाने का खेल कर दिया । यह लोग एक आरोपी के साथ दो मोटरसाइकिल कोतवाली पर ले आये । शायद फ़िल्म एक्टर अजय देवगन की स्टाईल में युवक दो मोटरसाइकिल लेकर मादक पदार्थ की तस्करी कर रहा होगा और यह श्रीमान मौके से उसी स्टाईल में थाने ले आये । बड़ी शर्म आती है ऐसे कानून के रखवालों पर जो अपनी काली कमाई के लिए बेकसूर युवाओं को टारगेट करते है । एक ओर गरोठ की घटना के बाद कोतवाली प्रभारी के प्रति सभी वर्गों में सहानभूति का वातावरण बना,सभी पुलिस की प्रसंशा कर रहे है वहीं इसी कोतवाली के कुछ कारिंदों ने पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान लगवाये है । पुलिस अधीक्षक महोदय से निवेदन है कि मादक पदार्थों की तस्करी करने वालों को जिले से नेटनाबूत कीजिये पर धंधेबाज पुलिस अधिकारियों के काले कारनामों पर कठोरता पूर्वक अंकुश लगाइए । कोई निर्दोष इनका शिकार न बने ऐसी कार्यवाही हो ।