थाने में संज्ञेय या असंज्ञेय मामला आने पर दंप्रसं की धारा 154 या 155 के अनुसार हो कार्यवाही

5:58 pm or July 27, 2022
महावीर अग्रवाल
मन्दसौर , भोपाल २७ जुलाई ;अभी तक;  थानास्तर पर किसी रिपोर्टकर्ता की शिकायत/रिपोर्ट पर संज्ञेय मामला पाया जाता है या असंज्ञेय मामला पाया जाता है, तो उसपर विधि के प्रावधानों के अनुसार दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 154 या 155, जैसी भी परिस्थिति हो, तद्नुसार कार्यवाही की जाये। मप्र मानव अधिकार आयोग में एक मामले में राज्य शासन को यह अनुशंसा की है।
                          अपनी अनुशंसा  में आयोग ने यह भी कहा है कि थानास्तर पर आई रिपोर्टों पर कार्यवाही/पर्यवेक्षण वरिष्ठ पर्यवेक्षक अधिकारियों द्वारा सुनिश्चित किया जाये। अनाधिकृत रूप से षिकायत जांच या रोजनामचा सान्हा जांच की कार्यवाहियों पर अंकुश लगाया जाये। यदि पुलिस को प्राप्त सूचना पर प्रतिबंधात्मक कार्यवाही की आवश्यकता पाई जाती है, तो उस पर त्वरित कार्यवाही सुनिश्चित की जाये। मामला छतरपुर जिले का है। आयोग के *प्रकरण क्र. 5400/छतरपुर/2020 के संदर्भ में* आयोग ने यह अनुशंसा की है। मामले के अनुसार आवेदिका श्रीमती शांतिबाई ने आरोपियों द्वारा उसकी भूमि पर रखे पेड़ ट्रेक्टर में भरकर ले जाने, मना करने पर उसे जातिसूचक गालियां देने, बुरी तरह मारपीट करने तथा रिपोर्ट दर्ज करने के लिये थाने जाने पर पुलिस द्वारा रूपयों का लेनदेन करने, तथापि कोई भी  कार्यवाही नहीं करने की षिकायत अपने आवेदन में आयोग से की थी। मामला आयोग में 18 सितम्बर 2020 को पंजीबद्ध हुआ था। तबसे आयोग ने मामले की लगातार सुनवाई कर मुख्य सचिव, मप्र शासन को यह अनुशंसा की है।