दस फर्जी परीक्षाथ्रियों को दो- दो साल का कारावास

6:57 pm or July 30, 2022

देवेश शर्मा

मुरैना 30 जुलाई ;अभी तक; पुलिस आरक्षक भर्ती परीक्षा मे पकडे गये 10 फर्जी परीक्षाथ्रीयों को न्यायालय मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी मुरैना ने शुक्रवार को दो दो वर्ष के कारावास व दो दो हजार रुपये के अर्थदण्ड से दंडित किया है।इस मामले में कोतवाली पुलिस मुरैना ने वर्ष 2012 में अपराध दर्ज कर न्यायालय में  चालान पेश किया था।

सहायक लोक अभियोजन अधिकारी पूनम वर्मा के मुताबिक न्यायालय मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी ने धोखा धड़ी का अपराध दोषसिद्धि पाये जाने पर आरोपी राजू उर्फ शिवचरण रावत,30 निवासी कैमराकला,कल्लू रावत,32 निवासी सुनवयी,जितेंद्र धाकड़ 40 निवासी धरसोला, सतेंद्र उर्फ हरीपुरी,30 निवासी ब्रजगड़ी, पानसिंह धाकड,33डोंगरपुर, दिलीप रावत,32 निवासी कैमरा कला, देव शर्मा,30 निवाशी खेरला/ मुरैना जिला/तथा मुकेश व राकेश पुत्रगण लखपति रावत निवासी गोहर जिला श्योपुर हैं।उन्होंने बताया कि उक्त आरोपियों के खिलाफ 5फरवरी 2012 को एसपी ऑफिस के एएसआईएम प्रदीप श्रीवास्तव ने फर्जी परीक्षार्थी होने की प्राथमिकी दर्ज कराई थी। कोतवाली पुलिस ने सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायालय में चालान पेश किया था।