दिव्यांगजन हमारे समाज का अभिन्न अंग है- स्वास्थ्य मंत्री

3:39 pm or September 26, 2020
दिव्यांगजन हमारे समाज का अभिन्न अंग है- स्वास्थ्य मंत्री
दीपक कांकर

रायसेन, 26 सितम्बर ;अभी तक ;  दिव्यांगजन हमारे समाज का अभिन्न अंग हैं। उन्हें समाज की मुख्य धारा में लाना हम सभी का नैतिक दायित्व है। हमें सरकार की योजनाओं का प्रत्येक दिव्यांगजन तक लाभ पहुंचाना है ताकि वह आत्मनिर्भर होकर स्वाभिमान के साथ जी सके। यह बात स्वास्थ्य मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी ने दिव्यांगजनों के कल्याण के लिए जिले में चलाई जा रही योजनाओं की कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में आयोजित समीक्षा बैठक के दौरान कही।
स्वास्थ्य मंत्री डॉ चौधरी ने कहा कि केन्द्र एवं प्रदेश सरकार द्वारा दिव्यांगजनों के कल्याण के लिए अनेक योजनाएं चलाई जा रही हैं। इन योजनाओं का लाभ सभी दिव्यांगजनों तक पहुंचाना सुनिश्चित करने के निर्देश अधिकारियों को दिए। उन्होंने सभी संबंधित अधिकारियों से कहा कि दिव्यांगजनों की शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार तथा पुर्नवास संबंधी कार्य केवल शासकीय दायित्व नहीं है बल्कि यह सभी का नैतिक दायित्व भी है। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि वे पूरी गंभीरता से काम करें ताकि जिले का कोई भी दिव्यांगजन अपने अधिकारों से वंचित न रहे।

                   बैठक में निःशक्तजन आयुक्त श्री संदीप रजक ने विभिन्न विभागों द्वारा दिव्यांगजनों के लिए संचालित गतिविधियों की विस्तार से समीक्षा की। उन्होंने कहा कि दिव्यांगजनों के लिए चलाई जा रही योजनाओं का पर्याप्त प्रचार-प्रसार किया जाए ताकि अधिक से अधिक दिव्यांगजनों को योजनाओं का लाभ मिल सके। कलेक्टर श्री उमाशंकर भार्गव तथा सामाजिक न्याय विभाग की प्रभारी उप संचालक श्रीमती संगीता जायसवाल ने जिले में दिव्यांगजनों के हित के लिए चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं एवं कार्यक्रमों के बारे में अवगत कराया। बैठक में जानकारी दी गई कि रायसेन में तीन करोड़ रूपए की लागत का दिव्यांग पुर्नवास भवन बन रहा है, जो मार्च 2021 तक तैयार हो जाएगा। इस अवसर पर संबंधित विभागों के जिला अधिकारी उपस्थित थे।

जिले के 11653 दिव्यांगजनों को प्रतिमाह 70 लाख रूपए पेंशन का भुगतान

बैठक में जानकारी दी गई कि जिले में 11653 दिव्यांगजनों को प्रतिमाह 69 लाख 91 हजार 800 रूपए पेंशन और सहायता राशि वितरित की जाती है। इनमें 2840 दिव्यांगजनों को इंदिरा गांधी राष्ट्रीय निःशक्त पेंशन योजना के तहत 1704000 रूपए, 1097 मंदबुद्धि/बहुविकलांग को 658200 रूपए आर्थिक सहायता, 1233 दिव्यांगजनों को दिव्यांग शिक्षा प्रोत्साहन सहायता राशि तथा 6483 दिव्यांगजनों को सामाजिक सुरक्षा निःशक्तजन पेंशन योजना के तहत 3889800 रूपए प्रतिमाह भुगतान किया जाता है। जिले में अब तक कुल 11433 दिव्यांगजनों को यूडीआईडी कार्ड जनरेट किए गए हैं। बैठक में जानकारी दी गई कि शिविरों के माध्यम से 552 निःशक्तता प्रमाण पत्र वितरित किए गए हैं तथा 118 दिव्यांगजनों को ट्रायसकिल, व्हील चेयर, श्रवण यंत्र सहित अन्य सहायक उपकरण वितरित किए गए हैं

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *