दिव्य संकल्प, निष्काम मनोरथ, महाघंटा अभियान की पूर्णाहूति

8:18 pm or May 6, 2022

प्रस्तुति पं. चेतन जोशी

मंदसौर ६ मई ;अभी तक;  मंदसौर नगर में स्थित जगप्रसिद्ध भगवान आशुतोष पशुपतिनाथ मंदिर परिसर में एक विशाल महाघंटा स्थापित हो ऐसी दुर्दशी सोच महाघंटा अभियान के सदस्यों ने आज से लगभग 7 वर्ष पूर्व 2015 में सोची। सोच मेहनत और लगन के बल पर सार्थक हुई और अब 8 मई 2022 को मध्यप्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह जी चौहान  पशुपतिनाथ मंदिर परिसर में लगे 3700 किलो महा वजनी महाघंटे का लोकार्पण करेंगे। यह पल सच में मंदसौर जिले के लिए ऐतिहासिक क्षण होगा।
सहस्त्रलिंग महादेव की प्राण प्रतिष्ठा के साथ ही महाघंटे का इतिहास भी सदैव के लिए भगवान पशुपतिनाथ मंदिर के साथ जुड़ जायेंगा। महाघंटे की कहानी शुरू हुई थी वर्ष 2015 में जब कुछ दोस्तों ने संकल्प लिया कि भगवान पशुपतिनाथ मंदिर को विश्व प्रसिद्ध करने के लिए कुछ नया और ऐतिहासिक किया जायें और वो भी सभी आमजनों के सहयोग से।  बिना किसी योजना के यह तय हुआ कि एक महावजनी महाघंटा पशुपतिनाथ मंदिर में लगाया जायें तब यह तय नहीं था कि यह सब कैसे होगा बस ठान लिया था कि करना है…

फिर सारे दोस्त मिले को एक मंडली महाघंटा अभियान का गठन किया गया जिसे श्री कामधेनु सामाजिक संस्था नाम दिया गया और तय किया गया कि सम्पूर्ण जिले में महाघंटा स्थापित करने के लिए पीतल और तांबा एकत्रित किया जायेगा। आमजनों के घर – घर जाकर यह आग्रह किया जायेगा कि घरों में रखा वेस्ट और बेकार हो चुका पीतल और तांबे से बनी वस्तुएं हमें दान करे।

अभियान धीरे – धीरे सफल हो गया और बड़ै पैमाने पर आमजनों का सहयोग हमें मिलने लगा। इस दौरान मंदसौर के पत्रकार साथियों और मीडिया का भी भरपूर सहयोग हमें मिला क्योंकि उन्होने भी यह समझ लिया था कि कुछ ऐतिहासिक होने वाला है। देश के शीर्ष दैनिक अखबार के पत्रकार ने अपने समाचार पत्र में महाघंटा अभियान की लीड न्यूज प्रकाशित की जिससे सभी साथियो का हौंसला बढा उसके बाद लगातार मंदसौर के सभी स्थानीय समाचार पत्रों ने हमारा भरपूर सहयोग किया और अभियान की ख्याति दूर – दूर तक फैलाई। इस बात को भी नहीं भूला जा सकता है कि अभियान को सफल बनाने का प्रमुख कारण मिडिया का निर्विवाद सहयोग रहा।

अभियान को सिर्फ रविवार को ही चलाया जाता था क्योंकि सभी मित्रगण अपने – अपने रोजगार से जुडे थे और सभी पर अपने परिवार की जिम्मेदारियां भी थी। प्रत्येक रविवार को यात्रा निकालते हुए शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों से पुराने पीतल और तांबे के बर्तन और कुछ दानराशि एकत्रित कर उसी क्षेत्र के रहवासियों के बीच सामग्री का वजन और नगद राशि का पचनामा बनाया जाता। अभियान में पारदर्शिता का ध्यान प्रारंभ से ही रखा गया था हिसाब भी शुरू से ही स्पष्ट रखा गया।

सामग्री एकत्रित करने और अभियान चलाने के पीछे उद्येश्य सिर्फ इतना था कि प्रत्यके नागरिक या प्रत्येक परिवार का सहयोग इस महाघंटा में लगे ताकि वे इस गौरवशाली क्षण के साक्षी बन सके। अभियान को सफल बनाने में हर आमजन ने भी अपना पूरा सहयोग दिया जो कुछ सहयोग नहीं दे पाया ऐसे व्यक्तियों ने हमारा हौंसला बढ़ाकर आगे बढने के लिए प्रेरित किया। धीरे – धीरे यात्राएं निकलते हुए पंाच वर्ष हो गये और भगवान महादेव की ऐसी कृपा हुई कि 2100 किलों का लक्ष्य रखा था और सामग्री 3700 किलो प्राप्त हो गई। मंडली के सभी सदस्यों ने एकमत होकर यह तय किया कि पूरी सामग्री गलाई जायेगी इसे बेचा नहीं जायेगा और 3700 किलो महाघंटा बनना तय हुआ।

वर्ष 2015 से वर्ष 2018 तक कुल 146 यात्राएं निकाली जा चुकी थी जिसमें 2 लाख से भी अधिक लोगों का सहयोग प्राप्त हुआ। इस दौरान कई मंच बने और कई स्थानों पर मंडली का सम्मान हुआ लेकिन श्रीकामधेनु संस्था का भी सदस्य कभी मंच पर चढने या सम्मान करवाने की होड़ में नहीं रहा और इसी एकता ने अभियान की सफलता का मूर्तरूप दिया।   जनवरी 2021 में महाघंटा बनकर तैयार हुआ और मंदसौर पहुंचा।  16 फरवरी 2021 बसंत पंचमी के दिन इसे भव्य शोभायात्रा के साथ पशुपतिनाथ मंदिर परिसर में लाया गया। सबसे बड़ी बात यह रही कि उसी दिन भी शहर में धारा 144 लगी हुई थी लेकिन महादेव की ऐसी कृपा रही कि सबकुछ बिना किसी विघ्न के संपन्न हो गया। क्योंकि सभी जानते थे कि ये लोग महादेव के भक्त है और ऐतिहासिक कार्य कर रहे है। प्रशासन का भी भरपूर सहयोग प्राप्त हुआ। महाघंटा अभियान को प्रारंभ से मंदसौर के विधायक श्री यशपालसिंह सिसौदिया का भरपूर सहयोग मिला वहीं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पूर्व मंत्री श्री नरेन्द्र नाहटा ने भी महाघंटा अभियान की खुले मन से प्रशंसा सोशल मीडिया के माध्यम से की थी।

अब यह महांघटा अपना मूर्तरूप लेकर मंदिर परिसर में लग चुका है 8 मई को मा मुख्यमंत्री शिवराजसिंहजी चौहान द्वारा इसे आमजनों के लिए समर्पित किया जायेंगा। यह क्षण हम सभी दोस्तों और महाघंटा अभियान मंडली के लिए गौरव का क्षण होगा और यह हमारे जीवन की सम्पूर्ण कमाई रहेगी… जय महादेव….जय पशुपतिनाथ