दुकान से उधार सामान न देने पर से मारपीट व गाली-गलौज करने वाले आरोपीगणों को हुआ 01 वर्ष का सश्रम कारावास 

8:14 pm or July 30, 2022
विधिक संवाददाता
   इंदौर ३० जुलाई ;अभी तक;  जिला लोक अभियोजन अधिकारी इंदौर,श्री संजीव श्रीवास्‍तव ने बताया कि दिनांक 29/07/2022 को  न्‍यायालय- श्री दिलीप सिंह परमार, जेएमएफसी,जिला इंदौर के न्‍यायालय में थाना बाणगंगाजिला इंदौर के आपराधिक प्रकरण क्रमांक 849/2010, में निर्णय पारित करते हुए आरोपीगण 1.बंशीलाल पिता मोहनलाल, 2. सुरेश पिता तेजईरामसभी निवासीइंदौर म.प्र.को धारा 325/34 भादवि के आरोप में 01-01 वर्ष के सश्रम कारावास एवं 500-500 रूपये के अर्थदण्‍ड एवं धारा 427 भादवि के आरोप में 06-06 माह के सश्रम कारावास,एवं 500-500 रूपये के अर्थदण्‍ड से दंडित किया गया । प्रकरण में अभियोजन कि ओर से पैरवी सहायक जिला लोक अभियोजन अधिकारी श्रीमती सुशीला दहीकर द्वारा की गई ।
                      अभियोजन कहानी संक्षेप में- घटना इस प्रकार है कि फरियादी मदन गुर्जर ने थाना बाणगंगा पर उपस्थित होकर रिपोर्ट लेख करवाई कि उसकी सुन्‍दर नगर गली नं. 5 में जय श्री धर्मराज के नाम से किराना दुकान है। दिनांक 11/11/2010में रात करीब 08:15 बजे दुकान  पर था तभी भूरा व लखन निवासी प्रिंस नगर आये तथा उधार सामान मांगने लगे, उसने सामान देने से मना किया तो ये लोग उसे मां बहन की गंदी गंदी गालियां देने लगे तभी उसके साथी बंशी व सुरेश भी आ गये और वे भी उसे मां बहन की गंदी गंदी गालियां देने लगे और गालियां देने से मना करने पर इन लोगों ने दुकान के काउन्‍टर से बर्नी व सामान फेंक दिया तथा काउन्‍टर तोड दिया जिससे उसका काफी नुकसान हुआ तथा भूरा ने उसे पल्‍टा से सिर में मारा और उसके साथियों ने लात ठूसों से मारपीट की, जिससे उसके सिर में चोट लगर कर खून निकलने लगा और अरोपीगण ने जान से मारने की धमकी दी थी ।उक्‍त सूचना पर से आरोपीगण के विरूद्ध अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया । संपूर्ण विवेचना उपरांत अभियोग पत्र माननीय न्‍यायालय के समक्ष प्रस्‍तुत किया गया । जिस पर से आरोपीगण को उक्‍त सजा हुई ।
नोट :- आरोपी लखन की प्रकरण के विचारण के दौरान मौत हो गई एवं भूरा प्रारंभ से फरार है ।