दुगली आगजनी कांड में लीपापोती का प्रयास : माकपा

राजेंद्र तिवारी

जगदलपुर १३ नवंबर ;अभी तक; मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने आरोप लगाया है कि दुगली आगजनी कांड में जांच के नाम पर प्रशासन द्वारा लीपापोती का प्रयास किया जा रहा है। साथ ही आदिवासियों के घर जलाने, उनकी फसलों को नष्ट करने और कई सालों से उनका सामाजिक बहिष्कार जारी रहने के मूल सवाल को ही जांच के दायरे से बाहर किया जा रहा है।

आज यहां जारी एक प्रेस बयान में माकपा के धमतरी जिला सचिव समीर कुरैशी ने बताया कि जांच पूरी होने के पूर्व ही बड़े सुनियोजित तरीके से मीडिया में प्रचारित किया जा रहा है कि कोई आगजनी हुई ही नहीं है।  वन प्रबंधन समिति ने केवल अवैध कब्जों को हटाया है, जबकि जलती आदिवासी झोपड़ियों की तस्वीरें सार्वजनिक हो चुकी है। उन्होंने कहा कि हमलावरों पर कार्यवाही करने के बजाए प्रशासन उनको बचाने का प्रयास कर रहा है।

माकपा नेता ने कहा कि पीड़ितों से पंचनामा के नाम पर एक ऐसे कागज पर हस्ताक्षर करने के लिए प्रशासन द्वारा दबाव डाला जा रहा है, जिसमें लिखा हुआ है कि पीड़ितों के दावे के विपरीत उन्होंने वर्ष 2015 में वन भूमि पर कब्जा किया है। माकपा ने मीडिया के लिए इस कथित पंचनामा की छाया प्रति भी जारी की है, जिस पर पीड़ितों ने हस्ताक्षर करने से इंकार कर दिया है। मीडिया रिपोर्टों के अनुसार स्वयं एसडीएम सुनील शर्मा पीड़ितों पर दबाव बना रहे हैं कि वे वन भूमि छोड़कर कही और चले जाएं। ज्ञात हो कि सुप्रीम कोर्ट ने वन भूमि पर काबिज किसी भी व्यक्ति को बेदखल करने के आदेश पर स्टे दे रखा है। कुरैशी ने कहा है कि एसडीएम का रवैया सुप्रीम कोर्ट के आदेश की अवमानना के दायरे में आता है।

माकपा नेता नेआगे कहा है कि यदि प्रशासन द्वारा आगजनी की घटना का फ़र्ज़ीकरण किया जाता है, तो माकपा आदिवासियों के लिए न्याय की लड़ाई को और तेज करेगी।इति

 


Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *