धनतेरस पर 50 करोड़ की धन वर्षा

मयंक भार्गव

बैतूल ३ नवंबर ;अभी तक;  दीपावली के दो दिन पूर्व धनतेरस पर मंगलवार को बाजार में जमकर धन वर्षा हुई। खरीदी के महापर्व धनतेरस पर नागरिकों ने अपनी आवश्यकता के सामान की जमकर खरीददारी की। दोपहर तक बाजार में भीड़ नहीं थी लेकिन दोपहर दो बजे के बाद बाजार में भीड़ बढऩे लगी। शाम होने के पूर्व शहर के व्यावसायिक क्षेत्र खचाखच भर गए। जिससे गंज के साथ ही कोठीबाजार में भी बार-बार जाम लग रहा था। धनतेरस पर चौपहिया, दोपहिया वाहनों, ट्रैक्टर के साथ ही सराफा, इलेक्ट्रानिक्स आयटम और बर्तनों की दुकान पर भारी भीड़ रही। इसके साथ ही कपड़े, मिठाई, पटाखे, सजावटी सामान की दुकानों में भी जमकर ग्राहकी हुई। धनतेरस पर जिले में लगभग 50 करोड़ रूपए का व्यवसाय होने का अनुमान है। देर रात तक बाजार में भीड़ थी। पांच दिवसीय दीपोत्सव के पहले दिन मंगलवार को धनतेरस के एक दिन पूर्व ही व्यापारियों ने तैयारी कर ली थी। व्यापारियों ने सोमवार को ही धनतेरस के दिन होने वाली भीड़ को देखते हुए दुकान के बाहर टेंट आदि लगा लिए थे वहीं दुकान में अतिरिक्त कर्मचारी रखे थे। शहर में दोपहर तक तो बाजार खाली ही नजर आ रहे थे लेकिन दोपहर बाद ग्रामीण क्षेत्रों से लोगों के आने से बाजार में भीड़ बढऩे लगी।

शोरूम में दिन भर रही भीड़

धनतेरस के दिन शहर के सभी दोपहिया और चौपहिया वाहनों के शोरूम में भीड़ लगी रही। अधिकतर लोगों ने धनतेरस के पूर्व ही वाहनों की बुकिंग कर ली थी। इसके बावजूद शोरूम में उन्हें लंबा इंतजार करना पड़ा। शोरूम में वाहनों को बिना सर्विसिंग ही वाहन दिए। जिले में धनतेरस पर एक हजार से अधिक दोपहिया वाहन बिके जिसमें हीरो, होण्डा, टीवीएस, सुजूकी के वाहनों की धूम रही। बाईक के साथ ही चौपहिया वाहनों की भी जमकर बिक्री हुई। जिले में लगभग आधा सैकड़ा चौपहिया वाहनों के साथ ही लगभग 25 ट्रेक्टर भी बिके। कुछ लोगों ने बैतूल से बाहर महानगरों से भी चौपहिया वाहनों की खरीदी की। जिले में लगभग 10 से 15 करोड़ रूपए का कारोबार ऑटो मोबाईल्स सेक्टर में हुआ।

सराफा दुकानों में रही वेटिंग

ऑटोमोबाइल्स के बाद सबसे अधिक बिक्री सोना- चांदी के आभूषणों में हुई। शहर के सराफा दुकानों में दोपहर से देर रात तक भीड़ रही। प्रमुख सराफा दुकानों में तो प्रवेश करने ग्राहकों को दुकान के बाहर इंतजार करना पड़ा। लोगों ने धनतेरस पर सोने, चांदी के आभूषणों के साथ ही सोने, चांदी के सिक्के, चांदी की मूर्तियों की जमकर बिक्री हुई। सराफा दुकानों में लगभग 15 करोड़ रूपए का व्यावसाय होने का अनुमान है।

इलेक्ट्रानिक्स आयटमों की भी धूम

धनतेरस पर इलेक्ट्रानिक्स आयटमों की भी जमकर बिक्री हुई। लोगों ने फ्रिज, टीवी, वाशिंग मशीन, माइक्रोवेब, मोबाइल आदि की जमकर बिक्री हुई। शहर की प्रमुख इलेक्ट्रानिक दुकानों में खचाखच भीड़ रही। इलेक्ट्रानिक्स दुकानों में लगभग 7 से 8 करोड़ रूपए की बिक्री होने का अनुमान है।

बर्तन दुकानों में खचाखच भीड़

धनतेरस पर्व पर बर्तन खरीदने का विशेष महत्व है। शहर की प्रमुख बर्तन  दुकानों में दोपहर से देर रात तक ग्राहकों की खचाखच भीड़ रही। बर्तन दुकानों के बाहर भी लोग अंदर जगह खाली होने का इंतजार करते रहे। बर्तन बाजार में 2 से 3 करोड़ का व्यावसाय होने का अनुमान है।

कपड़ा बाजार भी गुलजार

धनतेरस पर कपड़ा, मिठाई, ड्रायफू्रट्स सजावटी सामान की दुकानों में भी जमकर भीड़ रही। लोगों ने दीपावली पूर्व के लिए कपड़ों की खरीदारी की। धनतेरस पर प्रमुख व्यावसायिक क्षेत्र सीमेंट पर दो पहिया वाहनों और थाना रोड पर चौपहिया वाहनों का प्रवेश रोकने के बावजूद जाम की स्थिति रही। गंज में साप्ताहिक बाजार होने से दिन भर भीड़ रही और बार-बार जाम लगते रहा।