धरती को बचाने के लिए प्रत्येक जीवों का संरक्षण आवश्यक, पक्षी धरती को संवारने का कार्य करते हैं

10:09 pm or June 1, 2022

प्रहलाद कछवाहा

मंडला एक जून ;अभी तक;  भारत दुनिया की ऐसी भूमि है जहां पर वनस्पति जीव जंतु सभी को देव मानकर पूजा अर्चना की जाती है। इसी कारण हम हमारे वसुधैव कुटुंबकम हमने अपने ग्रंथों एवं संस्कारों से पाया, तब आज पूरी दुनिया विश्व पर्यावरण दिवस को एक ही पृथ्वी उद्देश्य के रूप में मना रही है। इस प्रकृति को बचाने के लिए अनेक माध्यम से भी पक्षियों के जीवन को बचाने के लिए अभियान चलाया जा रहा है। इस संसार में रहने वाले पक्षी इस पृथ्वी की अमूल्य धरोहर है जो कि धरती का श्रृंगार करने में उनका सबसे बड़ा योगदान है, लेकिन बढ़ते हुए भौतिकतावाद व भौगोलिक परिवेश के कारण बदलता हुआ जलवायु परिवर्तन इन सूक्ष्मजीवों के विनाश का कारण बन रहा है। इसका सही उत्तर दायित्व मानव ने किया है। इसलिए आवश्यक है कि हम इन सभी बातों को समझ कर इन जीवो के सरंक्षण में कुछ ना कुछ योगदान दे।

                      इस पर्यावरण दिवस पर इस पृथ्वी को बचाने के लिए हम एक पौधा 5 जून को अवश्य लगाएं व अपने घरों के आसपास पेड़ों में पक्षियों को बचाने के लिए मिट्टी के पात्र में अपने परिवार के साथ पानी डालकर इस दिवस को हर्षोल्लास से मना कर हम अपनी प्यारी धरती को समर्पित करें, तभी हम हमारे जंगल, हमारी नदियां व हमारे जीव जंतु पशु पक्षी सभी बचेंगे। इस कड़ी पर अमल स्कूल महाराजपुर में छात्रों के द्वारा पक्षी बचाओ अभियान के तहत विद्यार्थियों के द्वारा वृक्ष में मिट्टी के पात्र में पानी डालकर पर्यावरण सरंक्षण के लिए अपना योगदान दिया। इस आयोजन में सिस्टर लीना रोज प्राचार्य सिस्टर हैजा, सिस्टर फ्लावरेट, सतीश श्रीवास्तव शिवनंदन धनगर, सोनल कछवाहा, सुबोध सोनकुंवर, कुमारी प्रियंका उपाध्याय उपस्थित रही। कार्यक्रम का संयोजन इको क्लब प्रभारी आर के क्षत्रिय द्वारा किया गया। इसके साथ ही प्रकृति बचाने के लिए सभी छात्रों ने संकल्प लिया।