धर्मराजेश्वर बन सकता है आने वाले समय का सुप्रसिद्ध धार्मिक एवं बौद्ध पर्यटन का केंद्र  

6:22 pm or October 21, 2022
महावीर अग्रवाल
मंदसौर २१ अक्टूबर ;अभी तक;  मंदसौर जिले में स्थित धर्मराजेश्वर स्थान आने वाले समय में धार्मिक एवं बौद्ध पर्यटक स्थल के लिए मशहूर होने की पूर्ण संभावनाएं हैं, अगर मध्य प्रदेश सरकार इस स्थान को पर्यटक सुविधाओं से विकसित कर विभिन्न बौद्ध पर्यटकों के बिच बढ़ावा दे तो ।  मंदसौर विश्वविद्यालय के पर्यटन विभाग द्वारा किये गए आउटडोर प्रोजेक्ट के अध्ययन स्वरुप ये परिणाम निकल कर आया है ! मंदसौर के प्रमुख पर्यटन स्थल धर्मराजेश्वर जो की शिव मंदिर के साथ साथ बौद्ध गुफाओ के लिए प्रसिद्ध है, में पर्यटन की अनेक संभावनाएं है ।इस प्रोजेक्ट को मंदसौर विश्वविद्यालय के पर्यटन और हॉस्पिटैलिटी विभाग के डीन एवं विभागाध्यक्ष डॉ. लोकेश्वर सिंह जोधाणा के निर्देशन में पूरा किया गया ।
                                       डॉ. जोधाणा ने बताया कि विश्वविद्यालय के पर्यटन तथा हॉस्पिटेलिटी विभाग के छात्रों को विश्व प्रसिद्ध धर्मराजेश्वर स्थल पर प्रोजेक्ट दिया गया था । जिसमे विभाग के छात्रों ने स्थल का दौरा कर अध्ययन किया तथा वहां पर व्याप्त समस्याओं तथा पर्यटन की संभावनाओं के बारे में अपनी रिपोर्ट्स विभाग में प्रस्तुत की I इस अध्ययन  में विभाग के 24 छात्रों ने हिस्सा लिया । विभाग समय- समय पर विभिन्न  पर्यटन स्थलों  का भ्रमण करवा  कर पर्यटन को किस प्रकार विकसित किया जा सकता है के बारे में अध्ययन करता रहता है  ।मध्यप्रदेश के मंदसौर जिले में पर्यटन को दृष्टि स्वरुप रखते हुए रोजगार परख व्यावसायिक केंद्र बनाया जा सकता है । मंदसौर जिले में प्राकृतिक आकर्षणों की भरमार है, परन्तु इतने आकर्षण के बावजूद उस स्तर पर पर्यटन स्थल लोकप्रियता नहीं पा सके है इन्ही सभी बिन्दुओ पर छात्रों ने अपने प्रोजेक्ट में ध्यान आकर्षित किया है ! साथ ही धर्मराजेश्वर में रहने तथा खाने की व्यवस्था का अभाव भी एक प्रमुख समस्या बनकर उभरा है । हालाँकि इस स्थल को अगर बौद्धिक राष्ट्रों में बढ़ावा तथा प्रचार – प्रसार किया जाये तो फलदायक परिणाम सामने आ सकते है ।इस प्रोजेक्ट का आयोजन 04-04 छात्रों के दल के रूप में आयोजित किया गया जिनको असिस्टेंट प्रोफेसर सार्थक चौरसिया और अविशि श्रीवास्तव ने भी भाग लिया । विश्वविद्यालय कुलपति ब्रिगेडियर (डॉ.) भरत सिंह रावत ने आउटडोर प्रोजेक्ट के अध्ययन की समीक्षा कर पर्यटन विभाग द्वारा किये गए कार्य को सराहा ।