धर्म एवं विज्ञान का जुड़ाव वरिष्ठजनों के अनुभवों से प्राप्त होता है-डॉ. रविन्द्र सोहोनी

7:43 pm or November 30, 2021
महावीर अग्रवाल
मन्दसौर ३० नवंबर ;अभी तक;  100 वर्ष की आयु संयम, नियम, आहार, विहार, आचरण एवं व्यवहार से जीने पर ही प्राप्त होती है। जो लोग अधिक उम्र जीते है, उनके जीवन अनुभव हमारे पथ प्रदर्शक होते है। वरिष्ठजनों के जन्मदिन मनाकर हम उनके अनुभव का लाभ प्राप्त कर सकते है। उनके अनुभव धर्म से जुड़ी क्रियाओं के रूप में होते हैं जो विज्ञान की कसौटी पर भी खरे उतरते हैं धर्म से विज्ञान का जुड़ाव हमें वरिष्ठ जनों के अनुभव से ही प्राप्त होता है जो आज की पीढ़ी के लिए आवश्यक है।
              उक्त विचार सेवानिवृत्त एवं पेंशनर नागरिक महासंघ जिला मंदसौर द्वारा अध्यक्ष श्रवण कुमार त्रिपाठी के 75वें जन्मोत्सव पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में डे केअर सेंटर मंदसौर पर शासकीय महाविद्यालय मंदसौर के प्राचार्य श्री रविन्द्र सोहोनी ने व्यक्त किये।
             कार्यक्रम की शुरूआत प्राचार्य डॉ.सोहोनी, डे केअर व्यवस्थापक प्रमोद अरवन्देकर, समन्वयक डॉ. देवेन्द्र पौराणिक एवं श्रवणकुमार त्रिपाठी एवं परिवार द्वारा सरस्वती एवं भारत माता चित्र पर माल्यार्पण, दीप प्रज्जवलन पश्चात् मोहनलाल गुप्ता के गीत ‘‘जीवन में कुछ पाना है तो मन को मारे मत बैठो’’ से हुई।
                 श्रवण कुमार त्रिपाठी के 75 वर्ष पूर्ण कर 76वें वर्ष में प्रवेश पर प्राचार्य डॉ. सोहोनी, कार्यकारी अध्यक्ष मोहनलाल गुप्ता, डे केअर सेंटर व्यस्थापक प्रमोद अरवन्देकर, समन्वयक डॉ. देवेन्द्र पुराणिक, सचिव राजेन्द्र पोरवाल, जिला सचिव नन्दकिशोर राठौर, जिला कार्यकारिणी सदस्य अजीजुल्लाह खान ने श्री त्रिपाठी को पुष्पहार पहनाकर एवं शाल, श्रीफल  व प्रशस्ती पत्र भेंटकर सम्मान किया। साथ ही गायत्री मंत्र एवं महामृत्युंजय मंत्रोच्चार के साथ त्रिपाठी जी को लक्ष्मीनारायण सोनी, बद्रीलाल तिवारी, दिलीप काले, दिनेशकुमार खत्री, राजेन्द्र पाठक, घनश्याम व्यास, दिनेश द्विवेदी, नरेन्द्र शर्मा, बंशीलाल सेठिया, श्रीमती सुषमा सेठिया, कोमल वाणवार, शिवनारायण व्यास पटवारीजी, गोवर्धनलाल बैरागी, गोविन्द पारिख, किशोर खटवड़, अभय भटेवरा, गोपाल त्रिपाठी, विनोद चौबे, विष्णुलाल भदानिया, शालिग्राम दिया, भोलाशंकर त्रिपाठी ने पुष्पहार पहनाकर 76वें जन्मदिन की शुभकामनाएं दी।
कार्यक्रम का संचालन जिला सचिव नन्दकिशोर राठौर ने किया। भजन दिनेश खत्री ने तो जन्मदिन की कविता गोपाल त्रिपाठी ने प्रस्तुत की। आभार राजेेन्द्र पोरवाल ने माना।