धर्म स्थलों से व्यक्ति का जितना प्यार है उतना ही धरती मां के साथ सौतेला व्यवहार- श्री कमलमुनि जी

2:24 pm or August 2, 2022

महावीर अग्रवाल

मंदसौर २ अगस्त ;अभी तक;  धर्म स्थलों से व्यक्ति का जितना प्यार है उतना ही धरती मां के साथ सौतेला व्यवहार करता है। इसका विश्व के किसी धर्म में प्रवेश नहीं है।उक्त विचार राष्ट्र संत कमलमुनि कमलेश ने जैन दिवाकर प्रवचन हाल में  व्यक्त किए। संतश्री ने कहा कि इस माटी से मंदिर और मस्जिद बने हैं महापुरुषों के शरीर का निर्माण भी इसी से हुआ है। मजहब से बढ़कर माटी है। इसलिए नमक हलाल बनो नमक हराम नहीं। माटी के स्वाभिमान का प्रतीक हमारी आन बान शान और तिरंगा है । यें 130 करोड़ जनता की धड़कन है।देश आजादी के 75 वी वर्षगाँठ पर मैं  सभी धर्माचार्य से आव्हान करता हूं कि वो अपने अपने धर्म ध्वज के साथ तिरंगे को भी महत्व देंकर इसे शान से ले लहरायें।
धर्मसभा में तिरंगा लेकर पहुँचे विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया कहा कि जाति पंथ पार्टी से ऊपर है। आजादी के जश्न को दिवाली रमजान,रामनवमी, महावीर जयंती मोहर्रम से ज्यादा अधिक उत्साह ओर उमंग से बनाएं। इसकी शुरूआत राष्ट्र संतके श्री चरणों से की जा रही है।

जिला कलेक्टर गौतम सिंह ने कहा कि संतो के त्याग, तपस्या ओर वाणी के  प्रभाव से पवित्र भाव का संचार होता है। मुनि कमलेश के सानिध्य में सभी धर्म स्थानों पर तिरंगा लहराने की योजना बनाई गई है। मैं संतश्री का इसके लिए अभिनंदन करता हूं। विधायक और कलेक्टर ने तिरंगा का संकल्प जनता को दिलाया।
इस मौक़े पर विधायक सिसोदिया ने जैन दिवाकर कमल गोशाला  के लिए 5 लाख का आश्वासन दिया। वही कलेक्टर ने 3 अगस्त तक गौशाला के कागज गुरु जी के चरणों में देने का आश्वासन दिया। दोनों अतिथियों ओर पत्रकार संघ के उपाध्यक्ष प्रकाश सिसोदिया का स्वागत अनिल संचेती , आशीष चोरडिया, नरेंद्र मारु, प्रकाश रातडिया, सुशील तरवेचा, विजय खटोड़, महावीर जैन (पत्रकार), अशोक मारू, रमेश मारू, अजीत खटोड़, रामू नलवाया, अनिल जैन कवि रत्न श्री अक्षत मुनि जी ने तिरंगा गीत प्रस्तुत किया। घनश्याम मुनि जी के 23 उपवास, सेवक भेरूलाल के 20 उपवास की तपस्या चल रही है। मुनिश्री की तपस्या को लेकर चौवीसी का आयोजन हुआ। 7 अगस्त को तप साधना के लिए अभिनंदन समारोह आयोजित किया जाएगा।