धान का परिवहन रुका, बढ़ी अव्यवस्था, मात्र 46 प्रतिशत सिमटा परिवहन

11:07 am or December 25, 2021

मंडला संवाददाता

मंडला २५ दिसंबर ;अभी तक;  जिले में इस समय धान खरीदी बड़े पैमाने पर हो रही है। खरीदी केंद्रों में धान का व्यापक भंडार हो गया है। धान का उठाव नहीं होने कारण खरीदी केन्द्र में व्यवस्थाएं बिगड़ती जा रही है। खरीदी केंद्र पहुंच रहे किसानों की धान नहीं चल पाने के कारण खरीदी केंद्र में किसान परेशान हो रहे हैं। किसानों की शिकायत है कि विभागीय अधिकारियों को सूचित किया गया है कि धान का परिवहन कराया जाए। जिससे खरीदी केंद्र में स्थान खाली हो सके और किसानों की धान की तुलाई हो सके।

धान का उठाव नहीं होने कारण किसानों की धान तुल नहीं पा रही है।

जिला खाद्य आपूर्ति विभाग के आंकड़े बता रहे हैं कि जिले भर में धान का परिवहन मात्र 46 प्रतिशत ही हो सका है। जिले भर की छह तहसीलों में कुल 67 उपार्जन केंद्रों की स्थापना की गई है। इन केंद्रों के जरिए अब तक कुल 2.23 लाख क्विंटल धान खरीदी की जाा चुकी है लेकिन परिवहन मात्र 1 लाख क्विंटल का ही हो पाया है। अंदाजा लगाया जा सकता है कि जिले में धान खरीदी किस गति से की जा रही है।

नैनपुर में परिवहन बाधित

हाल ही में कलेक्टर हर्षिका सिंह ने उपार्जित फसल के परिवहन की धीमी गति से नाराजगी जाहिर की और परिवहन कार्य में गति लाने के निर्देश दिए। गौरतलब है कि जिले के धान उत्पादक क्षेत्रों में नैनपुर भी शामिल है। यहां धान की बंपर खरीदी होती है। यहां के केंद्रों में धान परिवहन बेहद धीमी गति से चल रहा है। जिसके कारण केंद्रों पर बिना तुली धान का भंडारण भी बढ़ता जा रहा है। इससे न केवल उन किसानों को परेशानी हो रही है जो अपनी धान की तुलाई करवा रहे हैं। बल्कि वे भी परेशान हैं जिनकी धान की तौल होना बाकी है।