*धोखाधडी करने वाले आरोपी का सोने की अंगूठी , ब्रेसलेट, चेन, मोबाइल की सुपुर्दगी का आवेदन निरस्त* 

महावीर अग्रवाल
     मंदसौर / सतना १५ अक्टूबर ;अभी तक;  न्यायालय मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी राजकुमार त्रिपाठी जेएमएफसी सतना के न्यायालय द्वारा दुष्यंत सिंह तनय स्व0 श्री रामावतार सिंह पटेल निवासी करही खुर्द थाना उचेहरा , गोपाल मिश्रा तनय छविनाथ मिश्रा निवासी इटमा जिला वाराणसी , राजेश तिवारी तनय सीताराम तिवारी निवासी वर्थराखुर्द जिला वाराणसी द्वारा धारा 420, 467, 468, 471 भादवि में  सोने की अंगूठी, ब्रेसलेट , चेन, मोबाईल की सुपुर्दगी का आवदेन निरस्त किया गया ।  सुपुर्दगी आवेदन का विरोध श्री संदीप कुमार एडीपीओ द्वारा की गई ।
                 अभियोजन प्रवक्ता श्री हरिकृष्ण त्रिपाठी ने बताया कि फरियादी आवेदक विजय कुमार द्विवेदी द्वारा गढिया टोला में फर्जी आर्टिफीसियल गैलरी खोलकर जनता से नगदी राशि हडप कर कम्पनी बंद कर भाग जाने बाबत लिखित आवेदन दिया गया था । आवेदक द्वारा यह रिपोर्ट की गई कि 7-8 माह पूर्व यह हल्ला हुआ कि बगहा मेे एक कंपनी आर्टिफीशिल के नाम पर खुली है जिसके मालिक राजेश तिवारी है और ऐसी चर्चा थी कि वह एक लाख रू0 जमा कराकर बतौर सिक्योरिटी जमा रहेगा और उसमें से एक पैकेट तु‍लसी की गुरिया मिलेगी जिसमें सौ माला बनती है । एक लाख के 10 पैकेट मि‍लेगे उसमें एक पैकेट की तुलसी की गुरिया मिलेगी । दिनांक 08/12/19 को बगहा स्थिति आफिस में मालिक से मिलने पर मालिक ने आवेदक से कहा कि जितना ज्यादा पैसा जमा करोगे उतना ज्यादा माला की गुरिया मिलेगी । तब दिनांक 09/12/19 को गढिया टोला स्थिति आफिस में आवेदक गया और राजेश तिवारी से मिलकर दो लाख रू0 नगद दिया । और उसने 20 पैकेट तुलसी की माला की गुरिया दिये और बोले कि जब तुम माला बनाकर लाओगे तब तुम्हारे दिये हुए पैसे की रसीद मिलेगी । तब आवेदक दिनांक 16/12/19 को राजेश तिवारी के पास गढिया टोला स्थिति आफिस में दो हजार माला जमा किया और गुथाई के रूप में नगदी बीस हजार रू0 दिये  एवं आवेदक द्वारा जमा किये गये 2 लाख रू0 की रसीद दस दस हजार की दस रसीद कुल एक लाख रू0 की रसीद दिये  दिये और बोला गया कि आज कम्प्‍यूटर खराब है अगले दिन बाकी बचे हुए एक लाख रू0 की रसीद लेना दिनांक 17/12/19 को राजेश तिवारी फोन करके बुलाए । पुन: दस दस हजार की दस रसीद कुल एक लाख रू0 की रसीद  राजेश तिवारी ने आवेदक को दिया । इसी प्रकार दिनांक 23/12/19 को आवेदक माला गुथकर राजेश तिवारी को दिया और राजेश तिवारी ने 20 हजार रू0 नगद दिया । और बोला कि और पैसा लगाओ । और ज्यादा से ज्यादा लोगो को लाने पर सुपरवाइजर बना दूंगा । और कमीशन की बात भी आरोपी द्वारा बोला गया ।  दिनांक 08/01/2020 को आफिस पहुंचने पर आफिस में ताला बंद था तथा चौकीदार ने बताया कि आरोपी राजेश तिवारी रात को ही यहा से चले गये है । राजेश तिवारी के साथ अन्य  अरोपीगण भी थे जो माला बनाने की स्कीम में लगे थे । आवेदक के अलावा अन्य लोगो से भी इसी तरह का झांसा के कपट पूर्वक राशि जमा कराकर सभी को नगदी पैसा लेकर आरोपीगण भाग गये थे ।
                   विवेचना के दौरान आरोपी राजेश तिवारी ने मेमोरेण्डम कथन में बताया कि धोखाधडी से लिये गये पैसे से मेरे द्वारा सोने की चैन , अंगूठी , तथा ब्रेसलेस खरीदा गया था ।

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *