नकली खाद कारोबारियो से हमारे यहां के विभाग बंदीया लेते रहे, राजस्थान सरकार ने कार्यवाही की- श्री भाटी

3:43 pm or November 17, 2021

महावीर अग्रवाल 

मंदसौर १७ नवंबर ;अभी तक;  लगातार मंदसौर जिले में नकली खाद जिसमें सुपर फास्फेट एवं अन्य प्रकार के खादो के विक्रय की खबरे लगातार सामने आती रही लेकिन जिला प्रशासन के अधिकारी एवं कृषि विभाग के अधिकारीगण इन खबरो का मखौल उडाते रहे। मंदसौर जिले में बडी पैमाने पर भुवानीमंडी स्थित नकली खाद कारखाने से खाद विक्रय होता रहा और किसानो को चुना लगाया जाता रहा लेकिन कभी भी मंदसौर जिले के संबंधित विभागो ने सुध नही ली। पिछले दिनों राजस्थान सरकार द्वारा भुवानीमंडी में नकली सुपर फास्फेट की फैक्टी के मामल में जो कार्यवाही की है उससे मंदसौर जिले के कृषि विभाग एवं अन्य संबंधित इकाईयो की पोल खुल गयी है।
जिला कांग्रेस प्रवक्ता एवं इंटक जिलाध्यक्ष सुरेश भाटी ने प्रेस विज्ञप्ति के माध्यम से अन्नदाता किसानो से संबंधित इस महत्वपूर्ण घटनाक्रम के संदर्भ में कहा कि मंदसौर जिले का कृर्षि विभाग असली खाद एवं बीज, दवाईयां बेचने वालो को विभिन्न प्रकार से परेशान करता रहा है लेकिन सख्ती की आड में नकली खाद विकेताओ को प्रश्रय देता रहा। दुकानदारो से विभिन्न प्रकार से जांच के नाम पर नोटिस देने वाले विभाग की नाक के नीचे मंदसौर में नकली राकोडिया खाद विक्रय होना अनेक सवाल खडे करता है।
श्री भाटी ने राजस्थान के भुवानी मंडी में कृषि विभाग एवं पुलिस द्वारा मंदसौर के व्यापारी एवं अन्य पर की गयी कार्यवाही के उपरांत जिला प्रशासन द्वारा की गयी कार्यवाही को सिर्फ दिखावा करार देते हुये कहा कि अगर मंदसौर जिला प्रशासन सही मायने में कार्यवाही  करता चाहता है तो इस मामले में मंदसौर कृषि विभाग मे जमे अधिकारियो एवं कर्मचारियो से भी पुछताछ होना चाहिये। उन्होनें नकली खाद के विक्रय को किसानो के साथ ही राष्ट्रीय हित को प्रभावित करना वाला कार्य करार देते हुये कहा कि जिस प्रकार से वित्त मंत्री से आरोपी व्यापारी की नजदीकिया है उससे साफ होता है कि नकली खाद कारोबारी को भाजपा सरकार का संरक्षण प्राप्त था किन्तु राजस्थान में कांग्रेस सरकार ने नकली खाद के नेटवर्क पर करारा प्रहार किया है। कांग्रेस प्रवक्ता श्री भाटी ने जिला कलेक्टर महोदय से मंदसौर जिले में नकली खाद कारोबार से जुडे व्यक्तियो पर ठोस कार्यवाही करते हुये विशेष टीम के गठन की मांग की है ताकी असल मायने मे कार्यवाही हो सके