नक्खी माई के दरबार में शनि जयंती पर भव्य आयोजन

10:12 pm or May 31, 2022

प्रहलाद कछवाहा

मंडला 31 मई ; अभी तक. शनिदेव जयंती, सोमवती अमावस्या और वट सावित्री व्रत के शुभ संयोग पर मुख्यालय से करीब 15 किमी दूर स्थित ग्राम बकोरी की पहाड़ी पर स्थित प्रसिद्ध नक्खीमाई के दरबार में  स्थापित नौ ग्रहों के सहित शनिदेव एवं दक्षिण मुखी हनुमान जी का अद्भुत मंदिर स्थापित किया गया है। इस शुभ संयोग के अवसर पर  देवदरा मंडला निवासी डीके सिंगौर, सुशीला सिंगौर  द्वारा भव्य धार्मिक कार्यक्रम आयोजित किया गया। पंडित भागवत प्रसाद तिवारी द्वारा दोपहर से ही शुभ मुहूर्त में पूजन, हवन, आरती के साथ ही महाप्रसादी का कार्य विधि-विधान से सम्पन्न कराया गया।

                      संध्या कालीन समय में देवदरा मंडला की भजन मंडली द्वारा संगीतमय भजन के साथ ही सुंदरकांड का पाठ किया गया, जिसे सुनकर श्रद्धालु भक्ति में डूबकर मंत्रमुग्ध हो गए। रात्रि ग्यारह बजे शनिदेव, हनुमानजी, नक्खीमाई की महाआरती के साथ ही कार्यक्रम का समापन किया गया। इस अवसर पर मंदिर समिति और बकोरी ग्रामवासियों का भरपूर सहयोग मिला। मां नक्खी माई और शनिदेव की कृपा से कार्यक्रम की शुरूआत में लेकर कार्यक्रम के अंत तक लगातार भंडारा का कार्यक्रम सतत रूप से चलता रहा।

निर्विघ्न संपन्न हुआ धार्मिक आयोजन :

शनि जयंती के अवसर पर आसपास के गांवों और क्षेत्र में आंधी तूफान और बारिश होने के कारण कार्यक्रम में विघ्न पडऩे की संभावना थी लेकिन भगवान शनिदेव और नक्खीमाई की कृपा से ग्राम बकोरी का मौसम एकदम साफ और सामान्य रहा, जिससे पूरा कार्यक्रम बिना किसी बाधा के निर्विघ्न संपन्न हो गया। ऐसा चमत्कार इसके पूर्व शनिदेव जी की मूर्ति स्थापना के दिन भी हुआ, जब आसपास के क्षेत्र में भारी बारिश हुई, लेकिन मां नकखीमाई और भगवान शनिदेव जी की  कृपा से बकोरी गांव में मौसम सामान्य रहा और बिना किसी बाधा के धूमधाम से कलश यात्रा और स्थापना का कार्यक्रम संपन्न हुआ। ग्राम के अनिल गुप्ता, नितिन साहू, अजय झरिया, प्रवेश साहू, दीपू ठाकुर, जगदीश तिवारी, गोलू झरिया, नीरज पटवा, सदन झरिया, सत्तू झरिया, मुकेश साहू , राहुल साहू, गणेश चक्रवर्ती, पुजारी नीलम ठाकुर, कंठा बाबा की उपस्थिति उल्लेखनीय रही।

प्राण-प्रतिष्ठित शनिदेव शिला के समक्ष जल रही अखंड ज्योति :

डीके सिंगौर ने बताया कि फूलसागर के पास ग्राम बकोरी की पहाड़ी पर देश के कोने कोने में प्रसिद्ध नक्खी माई का प्राचीन मंदिर है, जहां आने वाले भक्तों की सभी मनोकामना पूरी होती है। नवरात्रि के पर्व पर यहां अपनी मन्नतें पूरी होने पर हजारों श्रद्धालुओं द्वारा कलश-जवारे रखते है। इस प्रसिद्ध परिसर में देवदरा मंडला निवासी सिंगौर परिवार द्वारा भव्य शनिदेव मंदिर का निर्माण कराया गया है, जहां नवग्रहों समेत दक्षिण मुखी हनुमान जी विराजमान है। काले ग्रेनाइट पत्थर से निर्मित इस भव्य मंदिर में शनि-सिगनापुर से प्राण-प्रतिष्ठित शनिदेव शिला की स्थापना की गई है। भव्यता की दृष्टि से इस अद्वितीय मंदिर में शनि देव की मूर्ति के समक्ष अखंड ज्योति प्रज्वलित है। बकोरी की इस पहाड़ी में विराजमान प्रसिद्ध नक्खी माई तो वैसे ही वर्षों से लोगों की मनोकामना पूरी कर रही हैं, वहीं अपने नौ ग्रहों के दरबार के साथ विराजमान शनिदेव और दक्षिण मुखी हनुमान जी भी लोगों के सभी प्रकार के कष्ट दूर कर रहे हैं।