नगर पालिका की वार्ड क्रमांक-17 की प्रत्याशी ने लगाए मतगणना में अनियमितताओं के आरोप

8:51 pm or July 20, 2022
 (दीपक शर्मा)
पन्ना २० जुलाई ;अभी तक;  जिले में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में अनियमितताओं के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं आज पन्ना नगर पालिका परिषद के वार्ड क्रमांक 17 से कांग्रेस प्रत्याशी रूबी देवी सेंडके ने रिटर्निंग ऑफिसर के नाम एक शिकायती आवेदन पत्र सौंपकर अनियमितताओं और ईवीएम मशीनों में हेरफेर करने के आरोप लगाते हुए निर्वाचन को निरस्त कर पुनः निर्वाचन करवाने की मांग की है।
                     दिये गए शिकायती आवेदन पत्र में उल्लेख किया गया है कि वार्ड क्रमांक-17 से कांग्रेस प्रत्याशी का कहना है कि निर्वाचन से संबंधित कार्यालय जानकारी एवं दस्तावेज निर्वाचन कार्यालय पन्ना द्वारा नगर पालिका पन्ना निर्वाचन के नाम से बनाए व्हाट्सएप ग्रुप के द्वारा भेजे जाते रहे हैं जिसमें दिनांक 26 जून 2022 को शाम करीब 4:16  पर रेंडमाइजेशन के उपरांत आवंटित डिवाइस की जानकारी का पत्रक भेजा गया है जिसमें वार्ड क्रमांक 17 हेतु निर्धारित मतदान केंद्र क्रमांक 45 में निर्वाचन के लिए आवंटित सीयू/बीयू खंड में सीयू क्रमांक MPC62531 एवं बीयू क्रमांक MPB22431 तथा आवंटन पत्रक में वार्ड क्रमांक 17 के मतदान क्रमांक 45 हेतु रिजर्व रखे डिवाइस के खंड में सीयू क्रमांक MPC62324, MPC6326 एवं बीयू क्रमांक MP189975, MPB18 9980 लेख है लेकिन मतगणना दिनांक 17 जुलाई के दौरान वार्ड क्रमांक 17 के मतदान केंद्र क्रमांक 45 में कंट्रोल यूनिट क्रमांक MPC62396 द्वारा मतगणना की गई है जो डिवाइस ना तो वार्ड क्रमांक 17 हेतु आवंटित हुआ है। रेंडमाइजेशन कमीसिंग एवं एवं ईवीएम डिवाइस बदले जाने की जानकारी से संबंधित मध्यप्रदेश राज्य निर्वाचन आयोग भोपाल के पत्र क्रमांक F 82-11/2019/ आठ/93 भोपाल दिनांक 10 जून 2021 का पद एवं कंडिका क्रमांक 16 एवं 17 तथा मध्यप्रदेश राज्य निर्वाचन आयोग के पत्र क्रमांक F 82-11/2019/आठ/684 भोपाल दिनांक 22 दिसंबर 2020 का पद एवं कंडिका क्रमांक 1.8, 1.9, 1.10, 2.1, 2.6, 2.9, 2.10 अवलोकनीय है जिसका अनुसरण नहीं किया गया है। इसके साथ ही विभिन्न प्रकार की अनियमितताएं बरती गई हैं।
                साथ ही साथ रिजर्व के रूप में लेख है जिसमें प्रथम दृष्टया प्रमाणित होता है कि निर्वाचन प्रक्रिया पूर्ण ग्रह से ग्रसित होकर संपन्न की गई है जो अनियमितता निर्वाचन हेतु नियमों एवं विधि के विपरीत है जिस आधार मात्र पर ही संपन्न हुए उक्त निर्वाचन को निरस्त किया जाए।