नाबालिक से अश्लील हरकत करने वाले आरोपी को तीन वर्ष का कठोर कारावास

8:50 pm or September 30, 2022
दीपक शर्मा
पन्ना ३० सितम्बर ;अभी तक; नाबालिक बालिका के साथ अश्लील हरकत करने वाले आरोपी खुदाबक्श को विशेष अदालत के न्यायधीश द्वारा तीन वर्ष के कठोर कारावास की सजा से दण्डित किया है।
                         सहा.जि.लो.अभि.अधि. अभियोजन कहानी संक्षेप में इस प्रकार है कि, दिनांक 08.11.2017 को फरियादी ने थाना पवई में उपस्थित होकर इस आशय की रिपोर्ट लेख कराई कि दिनांक 05.11.2017 के 10ः30 बजे की बात है, वह अपने घर के आंगन में खाना बना रही थी। खुदाबख्श आया, उसमें बोला कि क्या कर रही हो, मां कहा है तो उसने कहा कि वह रोटी बना रही है मा बगल में खेत में काम कर रही है, ख़ुदा बख्श ने उसका हाथ बुरी नीयत से पकड़कर अपनी तरफ खींचा और  कहा हल्ला मत करो तो वह अपनी मां को चिल्लाई व अपना हाथ छुड़ाने लगी। तो छीना झपटी में उसका कुर्ता फट गया व उसके नाखून उसके बाये सीने के पास बांह व पीठ में लगे व उसे चोटें आई हैं। उसकी मां, आवाज सुनकर मौके पर आई तो खुदा बख्श जाते समय जातिगत गाली देकर बोला कि, अगर थाने में रिपोर्ट किया तो जान से मार देगा। अगर उसकी मा मौके पर न आती तो ख़ुदा बख्श इज्जत बिगाड देता। पिताजी बाहर इलाज हेतु गये थे उनके आने पर सारी घटना बताई।
                       फरियादी की उक्त सूचना के आधार पर आरक्षी केन्द्र पवई में अपराध क्रमांक-323/2017 धारा-354, 323, 506 भादस, 7/8 पाक्सो एक्ट एवं 3(2)(अं),3(1)(त) के अन्तर्गत प्रथम सूचना रिपोर्ट पंजीबद्ध की गई। विवेचना उपरांत अभियोग-पत्र माननीय न्यायालय में प्रस्तुत किया गया। प्रकरण का विचारण, न्यायालय विशेष न्यायाधीश (पाक्सो) पन्ना के न्यायालय मे हुआ।, विशेष लोक अभियोजक/सहा0जिला लोक अभियोजन अधिकारी पन्ना द्वारा शासन का पक्ष रखते हुये साक्षियों की साक्ष्य को विन्दुवार तरीके से न्यायालय के समक्ष लेखबद्ध कराकर आरोपी के विरूद्ध अपराध संदेह से परे प्रमाणित किया गया तथा आरोपी के कृत्य को गंभीरतम श्रेणी का अपराध मानते हुये माननीय न्यायालय से अधिकतम दंड से दंडित किये जाने का निवेदन किया। जिस पर माननीय न्यायालय द्वारा अभिलेख पर आई साक्ष्यों, अभियोजन के तर्को तथा न्यायिक-दृष्टांतो से सहमत होते हुए अभियुक्त-खुदाबक्श खान को धारा 354, 323, 506 भादवि एवं 7/8 लै.अप.से बा.का सं. अधि. 2012 के आरोप में क्रमशः 02 वर्ष, 03 माह, 01 वर्ष एवं  03 वर्ष  का कठोर कारावास एवं जुर्माना क्रमशः 1000 रू, 500रू, 500रू एवं 2000 रू. के अर्थदण्ड से एवं अर्थदण्ड के व्यतिक्रम पर क्रमशः 01 माह, 15 दिवस, 01 माह एवं 03 माह के अतिरिक्त कठोर कारावास से दंडित किया गया।