नाबालिग का बलात्‍कार करने वाले आरोपी की जमानत निरस्‍त

विधिक संवाददाता 

सीहोर २२ सितम्बर ;अभी तक;  न्‍यायालय प्रथम अपर सत्र न्‍यायाधीश सरिता बाधवानी, आष्‍टा, सीहोर के द्वारा अभियुक्‍त हर्ष पिता उमराव कुशवाह धारा 366, 376(2)(एन) भादवि व लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम 2012 की धारा 5(एल)/6 में जमानत निरस्‍त की गई।

अति0 जिला अभियोजन अधिकारी, देवेन्‍द्र सिंह ठाकुर द्वारा बताया गया कि  फरियादी द्वारा थाना आष्टा में रिपोर्ट लेख कराई कि फरियादी की पत्‍नी की तबियत खराब होने के कारण उसकी नातिन एक हफ्ते पहले उसके यहा ग्राम गाडरखेडी आई थी। घटना दिनांक 11.10.19 को फरियादी इलाज हेतु आष्‍टा गया था घर पर उसकी पत्‍नी व उसकी नातिन थी। जब फरियादी घर वापस आया तो घर पर उसे नातिन नहीं दिखी पत्‍नी से पूछने पर भी नहीं पता चला। फरियादी द्वारा पीडिता को आस-पास व रिश्‍तेदारी में तलाश किया किन्‍तु नहीं पता चला, संदेह है कि कोई अज्ञात व्‍यक्ति उसे बहला-फुसलाकर ले गया है। फरियादी की उक्‍त रिपोर्ट पर से थाना आष्टा के अपराध क्रमांक 605/2019 पंजीबद्ध कर प्रकरण विवेचना में लिया गया, दौराने विवेचना आरोपी हर्ष को गिरफ्तार कर धारा 366, 376(2)(एन) भादवि व लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम 2012 की धारा 5(एल)/6 के अंतर्गत माननीय प्रथम अपर सत्र न्‍यायायालय सरिता बाधवानी आष्टा, जिला- सीहोर के न्‍यायालय मे प्रस्‍तुत किया गया।

माननीय न्‍यायालय प्रथम अपर सत्र न्‍यायाधीश सरिता बाधवानी, आष्‍टा, जिला- सीहोर ने अभियुक्‍त हर्ष पिता उमराव कुशवाह द्वारा प्रस्‍तुत जमानत आवेदन पत्र को अभियोजन के तर्को से सहमत होकर निरस्‍त करने का आदेश पारित किया गया ।

शासन की ओर से पैरवी श्री देवेन्‍द्र सिंह ठाकुर, अति0 जिला अभियोजन अधिकारी, आष्‍टा, सीहोर द्वारा की गई।