नाबालिग के दुष्कर्मी को प्राकृतिक जीवनकाल तक जेल में रहने की उम्र कैद

संतोष मालवीय
भोपाल ३० सितम्बर ;अभी तक;   राजधानी की एक विशेष अपर सत्र न्यायालय ने नाबालिग के साथ दुष्कर्म करने वाले आरोपी बब्‍लू उर्फ बब्‍लेश मीणा (34) को शेष प्राकृतिक जीवन काल तक जेल में रहने की उम्र कैद के साथ जुर्माने से दण्डित किया है। अदालत ने आरोपी को पास्को एक्ट की धारा 5एल/6 के तहत शेष प्राकृतिक जीवनकाल तक की उम्र कैद की सजा से दण्डित किया है। तथा भादस की धारा 366,363 के आरोप में भी दोषी ठहराते हुए ग्यारह हजार रुपये के जुर्माने से भी दण्डित किया है।
                अभियोजन पक्ष के अनुसार 22 जून 2019 को पीडिता के माता-पिता गांधीनगर मार्केट आये थे, तथा घर पर पीडिता एवं उसकी बहनें थी। मार्केट से रात करीब 8:30 बजे जब पीडिता के माता-पिता घर वापस पहुँचे तो पीडिता की बहन ने बताया कि पीडिता घर पर नहीं है। तब उसके माता पिता ने पीडिता की आस-पडोस में खोजबीन की किंतु पीडिता नहीं मिली। जिस पर पीडिता के पिता की रिपोर्ट पर थाना गांधीनगर में मामला दर्ज कर प्रकरण विवेचना में लिया गया। विवेचना के दौरान 26 जून को पीडिता गांधीनगर थाने में स्वयं आई और उसने बताया कि मोहल्‍ले के रहने वाले आरोपी बब्‍लू मीणा द्वारा पीडिता को जबरदस्‍ती बाईक पर बैठाकर होशंगाबाद बस स्‍टेंड के पास एक मंदिर में ले गया वहां एक घंटे पीडिता को बिठा रखा फिर उसकी बाईक से बिट्ठल मार्केट में उसके भतीजे के घर ले गया जहां आरोपी द्वारा पीडिता के साथ दुष्कर्म किया। जैसे तैसे वह उनके चुंगल से भागकर अपने घर आई तथा पुलिस थाने पहुँचकर अपने साथ घटित घटना की जानकारी दी। जिसके उपरांत पुलिस ने आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर विवेचना पूर्ण कर न्‍यायालय के समक्ष अभियोग पत्र प्रस्‍तुत किया। न्‍यायालय द्वारा अभियोजन के तर्कों से सहमत होते हुये आरोपी बब्‍लू उर्फ बब्‍लेश मीणा को उक्त सजा से दंडित कर ग्यारह हजार रुपये के जुर्माने से दण्डित किया गया।