नाबालिग को शादी का झांसा देकर भागा कर ले जाने वाले अभियुक्त की जमानत निरस्त

विधिक संवाददाता

सीहोर २० नवंबर ;अभी तक;  व्दितीय अपर सत्र न्यायाधीश श्री वैभव सक्सेना, तहसील नसरूल्लागंज जिला सीहोर द्वारा अभियुक्त सुनील आत्मज गणेशराम मेहरा निवासी ग्राम खल थाना खातेगांव जिला देवास द्वारा नाबालिग बालिका को बहला फुसलाकर व शादी का झांसा देकर ले जाने पर जमानत निरस्त की गर्इ।

मीडिया सेल प्रभारी द्वारा बताया गया कि, थाना रेहटी जिला सीहोर  पर फरियादी पूनमचंद निवासी ग्राम ढाबा ने रिर्पोट लेख करार्इ कि, दिनांक 10/11/2018 को दोपहर 2.30 बजे उसकी लडकी शोच हेतु घर से गर्इ थी जो करीब 1 घंटे तक वापस नही आर्इ जिसे गांव के आस−पास व रिश्तेदारों के यहॉ तलाश के बाद भी नहीं मिली, शंका है कि कोर्इ अज्ञात व्यक्ति उसे  बहला फुसलाकर भगाकर ले गया है।

पुलिस द्वारा 24/10/2020 को ग्राम खल थाना खातेगांव जिला देवास से दस्तयाब किया गया, दस्तयाबी के दौरान पीडिता के द्वारा बताया गया कि अभियुक्त सुनील उसे शादी का झांसा  देकर बहला−फुसलाकर अपने गांव खल जिला देवास ले गया था जहां उसे एक झोपडी में पत्नी की तरह रखा और मना करने पर भी उसके द्वारा मेरे साथ बलात्कार किया

न्यायालय में दिया गया तर्क – अभियुक्त के द्वारा अव्यस्क पीडिता जो कि, 15 वर्ष से कम की है उसे शादी का झांसा देकर उसे अपने गांव खल जिला देवास ले गया था व उसके साथ उसकी मर्जी के बिना गलत काम किया । वर्तमान समय में अव्यस्क पीडिताओ  के साथ अपराध घटित हो रहे है अतः अभियुक्त को जमानत का लाभ दिया जाना उचित नहीं है।

शासन की आर से पैरवी श्री शिरीष उपासनी विशेष लोक अभियेजक  तहसील नसरूल्लागंज द्वारा की गर्इ।          

               

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *