नितिन डायग्नॉस्टिक सेंटर के संचालक डॉ. कैलाष गर्ग को हुआ 1 वर्ष का सश्रम कारावास

6:34 pm or August 5, 2022
महावीर अग्रवाल 
मंदसौर ५ अगस्त ;अभी तक;  मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट श्री सुरेष सिंह जमरा सा. मंदसौर द्वारा आरोपी डॉ. कैलाष गर्ग को अपराध में दोषी पाते हुए पी.सी. एण्ड पी.एन.डी.टी. एक्ट की धाराओं में 1-1 वर्ष का सश्रम कारावास एवं 2000-2000 रूपये अर्थदंड से दण्डित किया गया।
                    अभियोजन सहायक मीडिया सेल प्रभारी बलराम सोलंकी द्वारा बताया गया कि मामला इस प्रकार है कि विष्वसनीय सूचना अनुसार अभियुक्त के द्वारा पी.सी. एण्ड पी.एन.डी.टी. एक्ट के प्रावधानों का उल्लंघन किये जाने की सूचना प्राप्त होने पर तत्कालीन जिला मजिस्ट्रेट/समुचित प्राधिकारी पी.सी. एण्ड पी.एन.डी.टी. एक्ट के द्वारा दिनांक 12.10.2018 को कार्यालयीन आदेष पी.सी. एण्ड पी.एन.डी.टी. एक्ट/2018/7373 दिनांक 12.10.2018 द्वारा 5 सदस्यों का दल गठित किया गया है दल में डिप्टी कलेक्टर श्रीमती रोषनी पाटीदार, नोडल अधिकारी पी.सी. एण्ड पी.एन.डी.टी. एक्ट डॉ. राजेष सिसौदिया, महिला सषक्तिकरण अधिकारी रविन्द्र महाजन, जिला महिला एवं बाल विकास अधिकारी प्रफुल्ल कुमार खत्री, महिला बाल विकास विभाग की महिला सदस्य निलोफर मंसूरी को रखा गया उक्त आदेष के आधार पर गठित दल द्वारा डॉ कैलाष गर्ग के द्वारा संचालित नितिन डायग्नॉस्टिक सेंटर नई आबादी मंदसौर का औचक निरीक्षण किया गया उक्त दल के द्वारा दिये गये जांच प्रतिवेदन के आधार पर आदेष क्र./663/पी.एन.डी.टी. एक्ट दिनांक 23.10.2018 के आदेष द्वारा अभियुक्त डॉ कैलाष गर्ग के द्वारा संचालित नितिन डायग्नॉस्टिक सेंटर रोम टॉवर मंदसौर में तलाषी एवं अभिग्रहण हेतु डिप्टी कलेक्टर संदीप षिवा, नोडल अधिकारी पी.सी. एण्ड पी.एन.डी.टी. एक्ट डॉ. राजेष सिसौदिया, जिला महिला एवं बाल विकास अधिकारी प्रफुल्ल कुमार खत्री को अधिकृत किया गया था। उक्त गठित दल के द्वारा नितिन डायग्नॉस्टिक सेंटर की तलाषी डॉ कैलाष गर्ग की उपस्थिति मे ली जाकर संपूर्ण कार्यवाही की वीडियोग्राफी की जाकर पंचनामा बनाया। तथा जांच दल के द्वारा प्राप्त किये गये अभिलेखों का परीक्षण किया गया अभिलेख के अवलोकन एवं जांच प्रतिवेदन के परीक्षण पर नितिन डायग्नॉस्टिक सेंटर का सोनोग्राफी का पंजीयन नही होना पाया गया जो धारा 23 पी.सी. एण्ड पी.एन.डी.टी. एक्ट के अंतर्गत अपराध है तथा पी.सी. एण्ड पी.एन.डी.टी. नियम 1996 के नियम 17(1)(2),9,10 के नियमों का भी उल्लंघन नितिन डायग्नॉस्टिक सेंटर पर जांच के दौरान पाया गया था। संपूर्ण कार्यवाही मौके पर की जाकर पी.सी. एण्ड पी.एन.डी.टी. एक्ट के प्रावधानों एवं नियमों का पालन आरोपी डॉ कैलाष गर्ग द्वारा नही किये जाने पर आरोपी के विरूद्ध धारा 23 पी.सी. एण्ड पी.एन.डी.टी. एक्ट व नियम के तहत माननीय कलेक्टर महोदय मंदसौर की ओर से परिवाद माननीय न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत किया गया था।
                उक्त प्रकरण में अभियोजन द्वारा माननीय न्यायालय के समक्ष रखे गये तर्कों एवं साक्ष्यों से सहमत होते हुए आरोपी डॉ कैलाष गर्ग को न्यायालय ने दोषसिद्ध किया।
               प्रकरण में पैरवी सहायक जिला अभियोजन अधिकारी श्री संजय वसुनिया एवं दीपक जमरा द्वारा की गयी।