निर्वाचन कार्य में दल के सभी सदस्यों की भूमिका महत्वपूर्ण – कलेक्टर श्री सिंह

8:03 pm or June 18, 2022

महावीर अग्रवाल

मंदसौर 18 जून 22, अभीतक / त्रिस्तरीय पंचायत आम निर्वाचन 2022 के लिए मतदान कार्मिक का द्वितीय चरण का प्रशिक्षण जिला मुख्यालय पर आयोजित किया गया। 221 से 434 मतदान दलों का प्रशिक्षण प्रात: 9.30 बजे श्रीजी चित्र मंदिर मंदसौर में प्रशिक्षण दिया गया। यह प्रशिक्षण मतदान दल पीठासीन अधिकारी से लेकर पीठासीन अधिकारी 3 को दिया गया। जिला स्तरीय मास्टर ट्रेनर्स द्वारा यह प्रशिक्षण प्रदान किया गया। मतदान दलों को मतदान की प्रत्येक बारीकियों के संबंध में बिन्दुवार जानकारी दी गई। प्रशिक्षण में मतदान कार्मिकों को कहा गया कि चुनाव में किसी भी प्रकार की त्रुटि न हो इसके लिए प्रशिक्षण का पूर्ण सदुपयोग सुनिश्चित करें, क्योंकि चुनाव में गलती पाए जाने पर क्षम्य नहीं होती। प्रशिक्षण के दौरान कलेक्‍टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री गौतम सिंह, पुलिस अधिक्षक श्री अनुराग सु‍जानिया, सीईओ जिला पंचायत श्री कुमार सत्‍यमं, प्रशिक्षण के नोडल अधिकारी डा जे के जैन, श्री अशोक रत्नावत, मास्टर ट्रेनर्स, पीठासीन अधिकारी, कर्मचारी मौजूद थे।
                            प्रशिक्षण के दौरान कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री गौतम सिंह द्वारा कहा गया कि निर्वाचन कार्य में अनुशासन तथा आयोग के निर्देशों का पालन करना मतदान दलों का प्रथम दायित्व है। निर्वाचन कार्य में दल के सभी सदस्यों की भूमिका महत्वपूर्ण होती है। दल एक इकाई के रूप में कार्य करता है। सभी सदस्यों में आपसी सामंजस्य एवं समन्वय होना चाहिए। मतदान दल के सभी सदस्य स्वतंत्र एवं निष्पक्ष निर्वाचन संपन्न कराने हेतु जिम्मेंवार है। मतदान दल के सभी सदस्य गहनता के साथ प्रशिक्षण प्राप्त करें तथा मास्टर ट्रेनर से शंकाओ का समाधान प्रशिक्षण के दौरान ही कर लें। इस दौरान जिला निर्वाचन अधिकारी ने चल रहे प्रशिक्षण की गुणवत्ता का प्रशिक्षण कक्षों का भ्रमण कर आंकलन किया तथा प्रशिक्षणार्थियों से निर्वाचन संबंधी नियमों की जानकारी भी प्राप्त की।
                       मतदान दलों के सदस्यों ने प्रशिक्षण लेते हुए प्रशिक्षकों से अपनी शंकाओ का समाधानकारक जवाब प्राप्त किया। प्रशिक्षकों ने मतदान कार्मिकों को प्रशिक्षण के दौरान कहा कि वह अपने अन्दर आत्मविश्‍वास जागृत करें कि वे निर्वाचन प्रक्रिया को स्वतंत्र, निष्पक्ष तथा पूर्ण शुचिता के साथ सम्पन्न कराएंगे। मतदान प्रक्रिया के दौरान पीठासीन अधिकारी व मतदान अधिकारियों के द्वारा निर्वाहित की जाने वाली जिम्मेदारियों के संबंध में स्पष्ट जानकारी दी गई। प्रशिक्षण में मतदान कार्मिकों को उनके दायित्व के साथ ही चुनाव में छोटे-छोटे कार्यों को करने के लिए स्पष्ट जानकारी दी गई। प्रशिक्षकों ने कहा कि अगर किसी भी तरह की भ्रम की स्थिति हो तो मास्टर ट्रेनर के मोबाइल नम्बर पर अपनी शंका का समाधान जरूर कर लें।
                      मास्टर ट्रेनर प्रशिक्षक द्वारा मतदान दलों के गठन से लेकर मतदान सामग्री प्राप्त करनें, मतदान सामग्री का मिलान, मतदान दलों की रवानगी, मतदान केंद्र में पहुंचनें के पश्चात की जाने वाली तैयारियों, मतदान दिवस के दिन मतदान केंद्र की तैयारियों, मतदान प्रारंभ करने के पूर्व की जाने वाली कार्यवाहियों, रिर्पोटिंग, कम्युनिकेशन, इस दौरान तैयार किए जाने वाले प्रपत्रों, मतदान के पश्चात मतदान केंद्र पर ही संपन्न होने वाली मतगणना के संबंध में विस्तार से जानकारी दी गई। मास्टर ट्रेनर द्वारा बताया गया कि मतदान के दौरान तथा मतदान के पश्चात होने वाली मतगणना के लिए अभ्यर्थी स्वयं या अपने प्रतिनिधि को पृथक-पृथक अभिकर्ता नियुक्त कर सकेगा। अभ्यर्थियों की संख्या अधिक होने पर क्रमबद्ध तरीके से मतदान कक्ष में बैठने की अनुमति एवं परिचय पत्र संबंधित पीठासीन अधिकारी द्वारा तैयार किया जाएगा।