नीमच मंदसौर सर्राफा व्यापारी अनिल सोनी हत्याकांड का 50 हजार का ईनामी गैगस्टर चुन्नूलाल चढ़ा पुलिस के हत्थें,

महावीर अग्रवाल
मंदसौर २४ जून ;अभी तक;  नीमच मंदसौर सर्राफा व्यवसायी अनिल सोनी का हत्यारा चुन्नूलाला करीब दो साल से मंदसौर पुलिस को छका रहा था। मंदसौर पुलिस तो उसे नहीं पकड़ पाई, लेकिन उदयपुर के हत्थे चुन्नूलाला अपने साथियों के साथ चढ़ गया। एक प्रोपर्टी ब्रोकर्स से पचास लाख की डिमांड चुन्नू ने की। रुपए नहीं मिलने पर चुन्नू ने अपने साथियों के साथ प्रोपर्टी ब्रोकर्स पर गोलियां बरसाकर जानलेवा हमला किया।
                  उदयपुर पुलिस ने चुन्नू सहित चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है। चुन्नूलाल पर अनिल सोनी की हत्या के अलावा भी करीब डेढ़ दर्जन आपराधिक मामले दर्ज है।  उदयपुर पुलिस ने बताया कि प्रोपर्टी ब्रोकर्स मोहमद सिद्धीकी पिता अदुल रज्जाक निवासी उदयपुर को तीन चार माह पहले चुन्नूलाला ने अपने साथी जहांगीर लाला निवासी उदयपुर से फोन लगवाकर पचास लाख की मांग की। सिद्धीकी ने इस और ध्यान नहीं दिया। तीन दिन पहले फिर जहांगीर का फोन सिद्धीकी के पास गया और चुन्नूलाला के नाम की धमकी दी गई। गुरुवार को सिद्धीक अपने उदयपुर स्थित अनंता रिसोर्ट के पास वाली जमीन से बुडिया बावडी वाले फार्म हाउस लौट रहा था। तभी रास्ते में कोडियात रोड पर सिद्धीकी की जीप के आगे एक कार रुकी और उसमें से उतरे तीन लोगों ने फायरिंग करना शुरु कर दी। जैसे तैसे जीप चालक ने वहां से वाहन तेजी से भगाकर जान बचाई। पुलिस ने बताया कि जांच में पता चला कि बीडा पोपल्टी के जंगलों की तरफ कार और चार संदिग्ध लोग दिखाई दिए थे।
               पुलिस ने जंगल में दबिश दी। जहां से पुलिस ने चुन्नूलाला पिता डेरान खां निवासी नौगांवा, नवाज पिता आलम खान निवासी हिमत नगर गुजरात, प्रकाशचंद्र पिता चंदनसिंह निवासी कांकरोली जिला राजसमंद ओर सद्दाम शेख पिता मोहमद अय्यूब शेख निवासी कांकरोली जिला राजसमंद को गिरतार किया।  पुलिस ने बताया कि चुन्नूलाला के पास से रिवाल्वर और चार जिंदा कारतूस बरामद किए गए। वहीं नवाज से एक पिस्टल और एक जिंदा कारतूस मिला। 10 अप्रैल 2019 को सराफा व्यवसायी अनिल सोनी की गोली मारकर हत्या कर दी गई। चुन्नूलाल पर पचास हजार का ईनाम भी पुलिस ने घोषित कर रखा था। पुलिस ने चुन्नू की तलाश में दो साल तक हाथ पैर मारे, लेकिन पुलिस के हाथ चुन्नू नहीं लगा। उल्लेखनीय है कि अनिल सोनी हत्याकांड में इसके पहले पुलिस ने इस मामले में बबलू उर्फ शराफतउल्ला पिता डेरान लाला 45 निवासी ग्राम नौगांवा, अशरफ पिता सिद्दीक खां पठान निवासी बुलगढ़ी, सद्दाम पिता शेहजाद शाह निवासी लेबर कॉलोनी, सुनील पिता मोहनलाल मालवीय निवासी प्रतापगढ़, पुलकि त पिता विशेष शर्मा निवासी मंदसौर और प्रतापगढ़ निवासी रजनीश पिता कैलाशचन्ध माहेश्वरी को गिरफ्तार कि या था।