पत्थर मारकर 12 वर्षिय बालिका का कंधा तोडने वाली 02 महिलाओं कोे 01-01 वर्ष का सश्रम कारावास

महावीर अग्रवाल
मन्दसौर / मनासा ३० दिसंबर ;अभी तक;  श्री धर्म कुमार, न्यायिक दण्डाधिकारी प्रथम श्रेणी, मनासा द्वारा फसल खराब करने की बात को लेकर 12 वर्षिय बालिका के साथ पत्थरों से मारपीट कर उसका कंधा तोडने वाली 02 आरोपियां (1) लीलाबाई पति सूरजमल बंजारा, उम्र-50 वर्ष व (2) शांतिबाई पति कनीराम बंजारा, उम्र-52 वर्ष दोनों निवासीगण-ग्राम दांतोली बोरखेड़ा, थाना मनासा, जिला नीमच को भारतीय दण्ड संहिता, 1860 की धारा 325/34 के अंतर्गत 01-01 वर्ष के सश्रम कारावास एवं 500-500रू. जुर्माने से दण्डित किया।
श्री योगेश कुमार तिवारी, एडीपीओ द्वारा घटना की जानकारी देते हुुए बताया कि घटना 9 वर्ष पूर्व की होकर दिनांक 19.02.2012 को दिन के लगभग 4 बजे आहत पूजा के ग्राम दांतोली बोरखेड़ा स्थित खेत की हैं। आहत 12 वर्षिया पूजा घटना दिनांक को उसके खेत पर थी, तभी आरोपियां शांतिबाई व लीलाबाई बकरियां चरा रही थी तो पूजा ने दोनों आरोपियां से कहां की तुम हमारे खेत में बकरियां मत चराया करों फसल को नुकसान होता हैं। इसी बात को लेकर दोनों आरोपियां ने विवाद करते हुए पत्थरों से पूजा के साथ मारपीट करी, जिस कारण पूजा के कंधे की हड्डी टूट गई। पूजा के चिल्ला-चोट की आवाज सून कर आस-पास के खेत वाले आ गए, जिस कारण दोनों आरोपियां वहां से चली गई। बाद में पूजा के परिजनों ने दोनों आरोपिया के विरूद्ध पुलिस थाना मनासा में प्रथम सूचना रिपोर्ट लेखबद्ध कराई, जिस पर से अपराध क्रमांक 59/12, धारा 325/34 भारतीय दण्ड संहिता, 1860 के अंतर्गत पंजीबद्ध किया गया। विवेचना के दौरान आहत का मेडिकल कराकर शेष विवेचना पूर्ण अभियोग पत्र मनासा न्यायालय में प्रस्तुत किया गया।
विचारण के दौरान अभियोजन की ओर से न्यायालय में आहत पूजा के सदस्यों सहित सभी आवश्यक गवाहों के बयान कराकर आरोपियां द्वारा पत्थर से पूजा के साथ मारपीट कर उसे गंभीर चोट पहुंचाने के अपराध को प्रमाणित कराकर दोनों आरोपियां को कठोर दण्ड से दण्डित किये जाने का निवेदन किया। माननीय न्यायालय द्वारा दोनों आरोपियां को धारा 325/34 भारतीय दण्ड संहिता, 1860 के अंतर्गत 01-01 वर्ष का सश्रम कारावास व 500-500 रूपये जुर्माने से दण्डित किया। न्यायालय में शासन की ओर से पैरवी श्री योगेश कुमार तिवारी, एडीपीओ द्वारा की गई।