पन्ना टाइगर रिजर्व का चौकीदार जिंदगी-मौत के बीच झुल रहा, कथित अज्ञात लोगों ने खिलाया जहर

7:24 pm or November 16, 2021
हमारे संवाददता
पन्ना १६ नवंबर ; पन्ना टाइगर रिजर्व के सहायक संचालक के बंगले में तैनात चौकीदार को ड्यूटी के दौरान अज्ञात लोग कथित तौर पर जबरन जहरीला पदार्थ खिलाकर भाग निकले। चौकीदार की हालत बिगड़ने पर घटना की जानकारी उसके परिजनों को मिली। चौकीदार के पुत्र के द्वारा अपने दोस्तों की मदद से अचेत हालत में पिता को इलाज के लिए पन्ना जिला चिकित्सालय लाकर भर्ती कराया गया।
                   हैरान करने वाली यह घटना उस समय घटी जब वह पन्ना टाइगर रिसर्व के सहायक क्षेत्र संचालक के बंगले में ड्यूटी पर तैनात था।प्राथमिक इलाज के बाद चौकीदार रामलाल वर्मन को होश आ गया और उसके द्वारा अपने मृत्यु पूर्व कथन कार्यपालिक मजिस्ट्रेट को दर्ज कराए गए। इसके अलावा हॉस्पिटल चौकी पुलिस को भी अपने साथ घटित घटना की जानकारी दी गई। देर रात रामलाल की हालत बिगड़ने पर ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर ने उसे मेडिकल कॉलिज रीवा के लिए रेफ़र कर दिया। हालाँकि, परिजन उसे कटनी ले गए। जहां एक निजी हॉस्पिटल में भर्ती रामलाल वर्मन वेंटिलेटर पर जिंदगी और मौत से जूझ रहा है। आगामी कुछ घण्टे उसके जीवन के लिए काफी महत्वपूर्ण बताए जा रहे हैं।
                 वहीं सहायक संचालक का कहना है कि वह जब बंगले में आया तो दरवाजे खुले पड़े थे,चौकीदार नही था,जब उसे कॉल किया गया तो पता चला कि वह अस्पताल में भर्ती है। इस घटना के बाद से गरीब चौकीदार के परिजन काफी चिंतित, परेशान और भयभीत हैं।सवाल यह उठता है कि आखिर कोन है जो इस चौकीदार की जान लेना चाह रहा है और क्यों लेना चाह रहा है।आखिर क्यों उसे जहर दिया गया। क्या वह किसी का राजदार है,,,,जो राज जनता है।तीन नकाबपोश व्यक्ति कोन थे जिन पर जबरन जहर पिलाने की चर्चा आम है,,,।इन सभी सवालों की गुत्थी पन्ना पुलिस को सुलझाना पड़ेगी,,,जो पुलिस के लिए चुनौती बनी हुई है।
           इस घटना के बाद से पन्ना गरीब चौकीदार के परिजन बेहद परेशान है और किसी तरह जिंदगी बचाने की जद्दोजहद में लगे हए है। वही इस अधिकारी का कहना है कि घटना बंगले के बाहर की है,,,,जबकि परिजन बंगले से अर्धचेतन अवस्था मे उठाकर हॉस्पिटल में भर्ती कराना बता रहे है। बताया यह भी जा रहा है कि यह कर्मचारी करीव 10 दिन के अवकाश पर था लेकिन सहायक संचालक अधिकारी ने उसे ड्यूटी पर आने के लिए फोन पर आदेश दिया और बंगले पर बुलाया।लेकिन उसी दिन उसे कोई तीन नकाब पोस व्यक्ति जबरन जहर पिला कर भाग खदे हुये। लेकिन अधिकारी के बंगले की एक सुई भी चोरी नही हुई,,, जबकि यह अधिकारी अकेले ही अपने बंगले में रहते है।पत्नी और बच्चे अपने पास नही रखते।ऐसे में पन्ना टाइगर रिसर्व का यह अधिकारी भी सवालों के घेरे में है।अधिकारी से जब पूछा गया कि आप अपने कर्मचारी को देखने अस्पताल क्यों नही गए तो जबाब भी अटपटा था,की नही जा सका।लेकिन तीन दिन व्यतीत होने बाद भी पुलिस अभी भी इस जहर खुरानी की घटना की जांच जारी रहने की बात कर रही है। उधर गरीब चौकीदार रामलाल की जिंदगी मौत से युद्ध लड़ रही है वह एक एक सांस के लिए संघर्ष कर रहा है।वहीं परिजन बेहद परेशान बने हुए है।
                पन्ना टाइगर रिजर्व में अकुशल श्रमिक के पद पर पदस्थ रामलाल वर्मन पन्ना टाइगर रिजर्व के सहायक संचालक एस.के. गुरुदेव के बंगले में बतौर चौकीदार पदस्थ है। सहायक संचालक का सरकारी बंगला काष्ठागार डिपो के आवासीय परिसर में स्थित है, जहां आमने-सामने उत्तर वन मण्डल व दक्षिण वन मण्डल के डीएफओ के बंगले और वन विभाग का रेस्ट हाउस स्थित है। वन विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों के बंगलों और रेस्ट हाऊस में चौबीसों घण्टे कर्मचारी तैनात रहते हैं। लिहाजा अति सुरक्षित माने-जाने वाले इस परिसर में अघोषित तौर बाहरी लोगों का आना-जाना नहीं रहता है। चौकीदार के पुत्र रोहित उर्फ़ प्रशांत वर्मन ने बताया कि अस्पताल में रात में उसके पिता ने तहसीलदार व पुलिस को अपने कथन दर्ज कराते हुए घटना की जानकारी दी थी। उधर सहायक संचालक पन्ना एस.के. गुरुदेव का कहना है कि, यह घटना उनके बंगले के बाहर थोड़ी दूरी की है। उन्होंने बताया, गुरुवार को दोपहर में ऑफिस से घर आकर मैंने लंच किया और उसी समय रामलाल ने भी बंगले पर लंच किया। कुछ देर बाद मैं पुनः ऑफिस चला गया। शाम करीब 6 बजे जब वापस लौटा तो बंगला खुला हुआ पड़ा था, रामलाल वहां नहीं था। जानकारी लेने पर पता चला कि उसकी अचानक तबियत ख़राब हो गई। ओर वह अस्पताल में भर्ती है।उधर, जनचर्चा है कि चौकीदार रामलाल वर्मन को किसी महत्वपूर्ण राज की जानकारी है। शायद उस राज के खुलने से जिन लोगों को भी डर या खतरा है, कथित तौर पर उन्हीं लोगों ने दिनदहाड़े बड़े ही दुस्साहसिक तरीके से अति सुरक्षित माने-जाने वाले वन विभाग के आवासीय परिसर के पर ड्यूटी पर तैनात चौकीदार को जान से मारने की नियत से उसे जहर दिया है। अब देखना यह है कि, अक्सर ही महज कुछ घण्टों में अपराधों का खुलासा करने और आरोपियों को पकड़ने का दावा करने वाली पन्ना पुलिस रामलाल को जबरन जहर खिलाने की जिला मुख्यालय में हुई सनसनीखेज और बेहद हैरान करने वाली घटना का खुलासा कब तक कर पाती है।
इनका है कहना:-
 हम दिवाली के त्योहार में पन्ना घर आए हुए है अभी पिताजी ने छुट्टी ली थी जिसकी एप्लिकेशन हमने लिखी थी।क्योंकि उनका स्वास्थ्य ठीक नही था उनके पेट में सूजन थी।लेकिन साहब ने ड्यूटी पर बुला लिया और ड्यूटी पर बंगले चले गए।पापा के लिए दोपहर को टिफिन भी भैया के हाथ से घर से भेजा गया लेकिन शाम को पापा का फोन आया कि उनको किसी ने कुछ जहरीला पदार्थ खिला दिया है तो भैया लोग अपने दोस्तों के साथ उनको देखने गए जहां वह अचेत अवस्था में पड़े हुए थे जिन को लेकर अस्पताल में भर्ती कराया।अभी उनकी हालत खराब है।लेकिन साहब उनकोअभि तक देखने भी नही गए।
                                               संगीता रैकवार पीड़ित की बेटी
हमारे मित्र का फोन आया था कि उनके पापा को किसी ने कुछ खिला दिया है। हम लोगों को जब देखने गए तो वह गंभीर हालत में पड़े हुए थे। अस्पलाल लेकर उन्हें भर्ती कराया। लेकिन तबीयत बिगड़ती गई। उनके पास एक सी सी भी पड़ी पाई गई थी जिसे डॉक्टर ने देखा था। उनको तबियत खराब होने पर कटनी अस्पताल में भर्ती कराया गया हालत बहुत खराब है ।
                                                         मनीष यादव मददकर्ता
3:00 बजे लंच कर ऑफिस गया था जब शाम को करीब 6:00 बजे लौटा तो बंगला खुला पड़ा था पता किया तो पता चला कि रामलाल अस्पताल में भर्ती है उसे किसी ने कुछ खिला दिया है लेकिन ये संदेहास्पद बातें लगती हैं कि इतना क्लोज एरिया है यहां तीन चार बंगले हैं कोई बता रहा था कि जहरीली शराब पिलाई कोई कुछ बता रहा था।उसका जिला चिकित्सालय में उपचार चल रहा था बाद में उसे रीवा रेफर किया गया लेकिन उसको कट्नी में भर्ती कराया गया है मैं उसे देखने नहीं गया लेकिन जाऊंगा ।रामलाल         ऑन ड्यूटी था।
                                                                     आरके गुरुदेव
                                        सहायक संचालक,पन्ना टाइगर रिजर्व
    कोतवाली टीआई को अभी दो दिन पहले एक आवेदन पत्र प्राप्त हुआ है जिस पर अभी जांच की जा रही है जांच के बाद जो तथ्य निकलकर सामने आएंगे उस पर आवश्यक कार्यवाही की जाएगी।
                                                                      घर्मराज मीना
                                                                पुलिस अधीक्षक,पन्ना