पन्ना नगर मे लगातार बढ रहा जल संकट पन्द्रह हजार लोगो के लिए पानी सप्लाई बंद

10:51 pm or June 16, 2022
(दीपक शर्मा)
पन्ना १६ जून ;अभी तक; भीषण जल संकट से जूझ रहे पन्ना नगर के लोगों की परेशानी नगर पालिका परिषद के एक तुगलकी फरमान ने और अधिक बढ़ा दी है। मनमाने तरीके से नगर पालिका चला रहे नुमाइंदों ने बिना किसी सूचना के अचानक पन्ना नगर की नई पाइप लाईन से पेयजल सप्लाई पर अस्थाई तौर पर रोक लगा दी है। बारिश में तालाबों में पर्याप्त जल भराव होने तक नई पाइप लाईन से सप्लाई पूर्णतः बंद रहेगी।
                         इस दौरान सिर्फ पुरानी पाइप लाईन से 48 घण्टे में एक बार पानी की सप्लाई लगभग पौन घण्टे के लिए की जायेगी। वर्तमान में नगर की आधी आबादी जब एक-एक बाल्टी पानी की व्यवस्था के लिए दिन की तेज धूप-गर्मी व उमस के बीच पसीना बहाने और देर रात्रि तक दर-दर भटकने को मजबूर है, ऐसे मुश्किल समय में नई पाइप लाईन से पानी की सप्लाई पर यकायक बिना किसी सूचना के एकतरफा रोक लगाने के निर्णय से त्राहिमाम की स्थिति निर्मित होना तय माना जा रहा है। नई पाइप लाईन से वर्तमान में शहर के करीब 3 हजार घरों में नल कनेक्शन हैं, जिनसे पानी की आपूर्ती होती रही है। अब इस लाइन की पेयजल सप्लाई को बंद करने के फैसले से एक अनुमान के मुताबिक करीब 15 लोगों पर सीधा असर पड़ेगा।
                    हालांकि, नगर पालिका पन्ना के नवागत सीएमओ बसंत चतुर्वेदी इससे इंकार करते हैं।  उनकी दलील है कि, नई लाईन की पानी सप्लाई बंद करने के फैसले से संबंधित जल उपभोक्ताओं को जल संकट का सामना नहीं करना पड़ेगा। क्योंकि, जिन उपभोक्ताओं ने नई पाइप लाईन से नल कनेक्शन लिया है उनके घरों में पुरानी लाईन से नल कनेक्शन पहले से है और वह चालू हालत में है। सिर्फ पुरानी लाईन में पानी सप्लाई करने से दोहरे नल कनेक्शन वाले उपभोक्ताओं को भी 48 घण्टे में एक बार पानी सुगमता से उपलब्ध होगा। अभी तक दोहरे कनेक्शनधारियों को अलग-अलग लाइन से एक दिन के अंतराल से दो बार पानी मिलता था। लेकिन नगर में जिन तालाबों से जल आपूर्ती होती है उनके सूखने के कारण सभी उपभोक्ताओं को एक सामान पानी की आपूर्ती सुनिश्चित कर बर्बादी रोकने तथा व्यवस्था बनाने के उद्देश्य से एकमात्र पाइप लाईन को चालू रखने का निर्णय लिया गया है। इधर, नई पाईप लाईन से पानी सप्लाई को बंद किए जाने के निर्णय की सूचना न मिलने के कारण मंगलवार 14 जून को सुबह 9 से लेकर देर शाम तक लोग नल में पानी आने का इंतजार करते रहे। क्योंकि, नपा के नुमाइंदों ने आमजन से सीधे जुड़े अपने महत्वपूर्ण निर्णय की सूचना जल उपभोक्ताओं को देना भी उचित नहीं समझा।
04