पन्ना मे अधिकारीयों की भारी कमी के चलते जनता का काम प्रभावित,,,,,,तीन तीन अनुविभागो का जिम्मा एक अधिकारी के पास

पन्ना से दिलीप शर्मा दीपक
पन्ना ५ अक्टूबर ;अभी तक;  केबीनेट मंत्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह तथा सांसद वीडी शर्मा के जिले मे अधिकारीयों की भारी कमी देखी जा रही है जिससे जिले के विकास कार्य व्याप्क स्तर पर प्रभावित हो रहें है तथा आम जनता के कार्य नही हो पा रहें है।  अधिकारी सिर्फ शासकीय कार्यक्रमो या फिर नेताओं की आवभगत मे ही लगें रहते है। कार्यालयों मे कार्य कराने के लिए आने वाले गरीब लोग दफतरो के चक्कर लगाकर लोट जाते है।
                     सबसे बुरी स्थिती राजस्व विभाग की है जिले मे डिप्टी कलेक्टर के 8 पद स्वीकृत है जिसमे मात्र दो डिप्टी कलेक्टर पदस्थ है उन डिप्टी कलेक्टरो को 5 अनुविभागो का प्रभार दिया गया है। पन्ना मे एसडीएम के पद पर पदस्थ सत्यनारायण दर्रो को गुनौर, शाहनगर तथा पन्ना एसडीएम का प्रभार दिया गया है तथा अजयगढ मे पदस्थ एसडीएम कुशल सिंह गौतम को पवई तथा अजयगढ का प्रभार दिया गया है। सप्ताह मे 5 दिन वर्किंग-डे रहता है एक अधिकारी तीन तीन स्थानो पर कैसे काम करेगा यह स्वंय ही सोचने वाली बात है। इधर कलेक्टर कार्यालय मे तीन डिप्टी कलेक्टर के पद स्वीकृत है लेकिन एक भी डिप्टी कलेक्टर पदस्थ नही है।
                        इसी प्रकार नगर पालिका, नगर पंचायतो मे भी मुख्य नगर पालिका अधिकारीयों के भी पद रिक्त है। पन्ना नगर पालिका मे पदस्थ मुख्य नगर पालिका अधिकारी यशवंत वर्मा के पास पन्ना नगर पालिका सहित नगर पंचायत अजयगढ तथा शहरी विकास अभिकरण का भी प्रभार है। देवेन्द्र नगर मे पदस्थ मुख्य नगर पालिका अधिकारी सौरभ श्रीवास्तव के पास ककरहटी का भी अतिरिक्त प्रभार है इसी प्रकार अमानगंज मे पदस्थ मुख्य नगर पालिका अधिकारी श्याम सुन्दर तिवारी के पास गुनौर नगर पंचायत का अतिरिक्त प्रभार है। जिले की अधिकांश तहसीलो का प्रभार नायाब तहसीलदारो के हवाले चल रहा है। क्योकी फुल तहसीलदारो की भारी कमी है और भी अन्य विभागो मे इसी प्रकार से कार्य चल रहा है। जिससे जिले का विकास बुरी तरह प्रभावित है।