पपू गच्छाधिपति दौलतसागरजी मसा का शताब्दी महोत्सव मनाया गया

महावीर अग्रवाल

मंदसौर १९ सितम्बर ;अभी तक । सागर समुदाय के गच्छाधिपति दौलतसागर सूरिश्वरजी मसा का 100वा अवतरण दिवस नगर के रूपचांद आराधना भवन, चैधरी काॅलोनी में पपू साध्वी श्री विरेशाश्रीजी मसा आदि ठाणा 3 की निश्रा में मनाया गया। इस अवसर पर श्रीसंघ ने प्रातः 6.30 बजे प्रभु शांतिनाथ जी का स्तुतीकरण व शांतिधारा पाठ से 108 पुष्प से नवकार मंत्र के साथ अभिषेक किया। प्रातः 8.30 बजे सामूहिक समायिक व गुणानुवाद सभा का आयोजन किया। इस अवसर पर पूज्य गुरूवर्या श्री ने बताया कि गुरू बिना जीवन अधूरा है प्रभु महावीर को नथसार के भव में गुरू ज्ञान मिला तो ही वे महावीर बने। वीर प्रभु के शासन की प्रभावना गुरू भगंवतों द्वारा ही हो रही है। पू गुरूदेव जिन्होने जन्म तो अजैन परिवार में लिया परंतु मात्र 19 वर्ष की अल्प आयु में सयंम धारण की जीनशासन की बेजोड़ शासन प्रभावना लगभग 81 वर्ष दिक्षा जीवन में ही व्यतीत किये।

वर्तमान में आपके समुदाय में लगभग 925 साधु – साध्वी  भगवंतों का जैन शासन का सबसे बड़ा समुदाय है। आपने 9 आगम मंदिर, 31 बारसासूत्र मंदिर के साथ 119 कल्याणक का विहार करते हुए गजब की जैन शासन की प्रभावना कर रहे है। इस आयु  में भी आप पूर्ण स्वस्थ है। आपने 37 जिनालयों को प्रतिष्ठा करवाई। भावी पीढियों को आगम का ज्ञान मिलें। ऐसे पूज्य गुरूदेव के अवतरण दिवस पर श्री केशरिया आदिनाथ श्रीसंघ रूपचांद आराधना भवन की ओर से हार्दिक शुभकामनाएं। आपका आशीर्वाद सदैव श्रीसंघ पर बरसता रहें। इस अवसर पर श्रीसंघ के द्वारा सामूहिक आयंबिल का भी आयोजन किया गया

Related Articles

Post your comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *