पल्सर बाईक पर बैठे हुए कैसे फांसी पर झूल गया युवक?

मयंक भार्गव

बैतूल ४ जून ;अभी तक;  एक बाईक पर बैठा हुआ युवक आखिरकार कैसे फांसी के फंदे पर झूल सकता है? हालांकि इस प्रकरण को फिलहाल पुलिस आत्महत्या का मान कर चल रही है लेकिन पुलिस को मौत के साक्ष्य तक पहुंने के लिए और अधिक मेहनत करनी पड़ेगी। इस मामले में टीआई महेंद्र सिंह का कहना है कि मर्ग जांच के दौरान मृत्यु के कारणों का खुलासा हो जाएगा।

प्राप्त जानकारी के अनुसार पाथाखेड़ा के जंगलों में स्पोर्ट्स सामग्री की दुकान पर काम करने वाले एक युवक का शव पलाश के पेड़ पर लटकी हुई अवस्था में मिला। युवक की मौत पल्सर बाइक पर बैठे- बैठे हो गई। पुलिस अब जांच कर रही है।

टीआई महेंद्र सिंह ने बताया कि मृतक बगडोना की स्पोर्ट्स शॉप में काम करता था। युवक जिस कूदने वाली रस्सी के फंदे से झूलता मिला। वैसी मौके पर 4-5 और रस्सी मिली है। जिसमें से दो साबूत रस्सी है। जबकि एक रस्सी सागौन के पेड़ पर लटकी मिली। वहीं दो रस्सी प्लास्टिक की थैली में साबूत मिली है। मौके पर लोवर- टीशर्ट भी मिली है। पुलिस के अनुसार एक दिन पहले ही युवक की गुमशुदगी पुलिस दर्ज की गई है। संदिग्ध हालत में फांसी के फंदे पर झूलता युवक का शव मिलने पर टीआई महेंद्र सिंह चौहान ने मौके का निरीक्षण कर एफएसएल टीम को सूचना दी है। फिलहाल युवक का शव फंदे पर ही झूल रहा है। मृतक की पहचान नितेश पिता रामदास वसूले पटेल नगर पाथाखेड़ा के रूप में हुई है। फिलहाल शव पोस्टमार्टम उपरांत परिजनों को सौंप दिया है।